राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में कैग की भूमिका अहम, ऑडिट खामियों को निकालने की नहीं बल्कि उन्हें दूर कर सुधार की प्रक्रिया है- लोक सभा अध्यक्ष

नई दिल्ली, 17 नवंबर (आईएएनएस)। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में कैग की अहम भूमिका का जिक्र करते हुए कहा कि ऑडिट खामियों को निकालने की प्रक्रिया नहीं है बल्कि उन्हें दूर कर सुधार करने की प्रक्रिया है।
 
राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में कैग की भूमिका अहम, ऑडिट खामियों को निकालने की नहीं बल्कि उन्हें दूर कर सुधार की प्रक्रिया है- लोक सभा अध्यक्ष
राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में कैग की भूमिका अहम, ऑडिट खामियों को निकालने की नहीं बल्कि उन्हें दूर कर सुधार की प्रक्रिया है- लोक सभा अध्यक्ष नई दिल्ली, 17 नवंबर (आईएएनएस)। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में कैग की अहम भूमिका का जिक्र करते हुए कहा कि ऑडिट खामियों को निकालने की प्रक्रिया नहीं है बल्कि उन्हें दूर कर सुधार करने की प्रक्रिया है।

लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने गुरुवार को नई दिल्ली में लेखा परीक्षा दिवस और लेखा परीक्षक सम्मेलन के समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि कैग (सीएजी) दुनिया के सबसे प्रभावी और प्रतिष्ठित ऑडिट संस्थानों में से एक है। उन्होंने कहा कि सदन और संसदीय समितियों के भीतर सीएजी की रिपोर्ट पर चर्चा और सकारात्मक सुझाव देश के लोकतंत्र को मजबूत करता हैं। बिरला ने कहा कि सीएजी रिपोर्ट पर सदन में पार्टी लाइन से परे जाकर चर्चा की जाती है और राष्ट्र के हित में ही निर्णय लिए जाते हैं।

कैग की भूमिका का उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा कि इस संस्थान को संविधान ने व्यापक और सक्रिय भूमिका प्रदान की है और सुनिश्चित किया है कि उनकी निष्ठा केवल संविधान और राष्ट्र के प्रति हो। बदलते परिप्रेक्ष्य में कैग की बढ़ती भूमिका के विषय में बिरला ने कहा कि कैग रिपोटरें का महत्व बढ़ा है तथा देश में लेखापरीक्षा की प्रासंगिकता और बढ़ी है। उन्होंने आगे कहा कि सरकार के कामकाज का आकलन करते समय कैग के पास आउटसाइडर व्यूपॉइंट होता है, जिससे वित्तीय बचत व कुशल कार्ययोजना में वृद्धि होती है।

संसदीय लोकतंत्र में शासन की पारदर्शिता और जवाबदेही को मूलमंत्र बताते हुए बिरला ने कहा कि जनता के धन का प्रभावी उपयोग संसद और शासन दोनों का ध्येय है। उन्होंने राज्यों के वित्तीय अनुशासन को सुनिश्चित करने में भी सीएजी की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम

From around the web