रघुवर दास हैं खनन घोटाले के बड़े हिस्सेदार तो उनसे पूछताछ क्यों नहीं? ईडी चार्जशीट का हवाला देकर विधायक सरयू ने उठाए सवाल

रांची, 17 नवंबर (आईएएनएस)। झारखंड सरकार के पूर्व मंत्री और निर्दलीय विधायक सरयू राय ने अवैध खनन घोटाले में राज्य के पूर्व सीएम रघुवर दास से भी ईडी पूछताछ की मांग की है। उन्होंने कहा है कि ईडी ने अपनी चार्जशीट में अवैध खनन घोटाले में जिस अवधि का जिक्र किया है, उस अवधि में रघुवर दास साल तक मुख्यमंत्री और खान मंत्री रहे हैं। स्टोन चिप्स की अवैध ढुलाई का आरोप जिन लोगों पर है, उनमें एक प्रेमप्रकाश को ईडी ने अरेस्ट भी कर रखा है। यह शख्स रघुवर दास का करीबी रहा है। घोटाले में वह बड़े हिस्सेदार रहे हैं। ईडी को पूछताछ के लिए उन्हें भी समन करना चाहिए।
 
रघुवर दास हैं खनन घोटाले के बड़े हिस्सेदार तो उनसे पूछताछ क्यों नहीं? ईडी चार्जशीट का हवाला देकर विधायक सरयू ने उठाए सवाल
रघुवर दास हैं खनन घोटाले के बड़े हिस्सेदार तो उनसे पूछताछ क्यों नहीं? ईडी चार्जशीट का हवाला देकर विधायक सरयू ने उठाए सवाल रांची, 17 नवंबर (आईएएनएस)। झारखंड सरकार के पूर्व मंत्री और निर्दलीय विधायक सरयू राय ने अवैध खनन घोटाले में राज्य के पूर्व सीएम रघुवर दास से भी ईडी पूछताछ की मांग की है। उन्होंने कहा है कि ईडी ने अपनी चार्जशीट में अवैध खनन घोटाले में जिस अवधि का जिक्र किया है, उस अवधि में रघुवर दास साल तक मुख्यमंत्री और खान मंत्री रहे हैं। स्टोन चिप्स की अवैध ढुलाई का आरोप जिन लोगों पर है, उनमें एक प्रेमप्रकाश को ईडी ने अरेस्ट भी कर रखा है। यह शख्स रघुवर दास का करीबी रहा है। घोटाले में वह बड़े हिस्सेदार रहे हैं। ईडी को पूछताछ के लिए उन्हें भी समन करना चाहिए।

बता दें कि पूर्व सीएम रघुवर दास पर खनन घोटाले में सहभागी होने का आरोप लगाने वाले सरयू राय उनके मंत्रिमंडल में शामिल थे। भाजपा का टिकट न मिलने पर 2019 के चुनाव में उन्होंने रघुवर दास के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ा था और उन्हें पराजित किया था।

जमशेदपुर पूर्वी के विधायक राय ने खनन घोटाले में ईडी की ओर से दायर चार्जशीट का हवाला देते हुए कहा है कि 2015 से 2019 के बीच हर साल रेलवे रैक से स्टोन चिप्स की अवैध ढुलाई हुई है। चार्जशीट के मुताबिक पीरपैंती साइडिंग से बिना चालान 251 रेल रैक स्टोन चिप्स का अवैध परिवहन हुआ है, जिसमें 233 रैक की ढुलाई रघुवर दास सरकार के कार्यकाल में हुई है, जबकि मात्र 18 रैक की ढुलाई हेमंत सोरेन सरकार के कार्यकाल में हुई। यह अवैध परिवहन प्रेम प्रकाश की कम्पनी ने किया है, फिर पूछताछ केवल हेमंत सोरेन से क्यों हो रही है?

राय ने कहा है कि जिस घोटाला में झारखंड की पूर्व खान सचिव पूजा सिंघल जेल में है, वह घोटाला ईडी चार्जशीट के अनुसार वह 2013 से 20 के बीच हुआ। जिस आरोप में ईडी ने पूजा सिंघल को जेल में डाला है, उस मामले में रघुवर दास की सरकार ने ही उन्हें आरोपमुक्त किया था। इस मामले में भी ईडी रघुवर दास की भी भूमिका पर चुप क्यों है? उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार पर तो सिर्फ गिट्टी घोटाले का आरोप है, जिसमें उनके प्रतिनिधि पंकज मिश्रा मुख्य अभियुक्त हैं, पर रघुवर दास पर तो गिट्टी घोटाला के साथ ही मनरेगा घोटाले का आरोप भी है, जो ईडी की उस चार्जशीट से साबित होता है, जिसमें पूजा सिंघल पर मुकदमा हुआ है। सरयू राय ने इस मामले को लेकर ईडी के डायरेक्टर को टैग करते हुए कई ट्वीट किए हैं।

--आईएएनएस

एसएनसी/एएनएम

From around the web