महिला आदिवासी मंत्री पर टिप्पणी को लेकर शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ एफआईआर

कोलकाता, 16 नवंबर (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ बुधवार को एक प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिसमें उन पर झाड़ग्राम निर्वाचन क्षेत्र से तृणमूल कांग्रेस की विधायक और आदिवासी समुदाय से आने वाले पश्चिम बंगाल की मंत्री बीरबाहा हंसदा के बारे में कथित अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाया गया है।
 
महिला आदिवासी मंत्री पर टिप्पणी को लेकर शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ एफआईआर
महिला आदिवासी मंत्री पर टिप्पणी को लेकर शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ एफआईआर कोलकाता, 16 नवंबर (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ बुधवार को एक प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिसमें उन पर झाड़ग्राम निर्वाचन क्षेत्र से तृणमूल कांग्रेस की विधायक और आदिवासी समुदाय से आने वाले पश्चिम बंगाल की मंत्री बीरबाहा हंसदा के बारे में कथित अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाया गया है।

हाल ही में, एक वीडियो क्लिप वायरल हुई थी, जिसमें शुभेंदु अधिकारी को सार्वजनिक रूप से यह कहते हुए सुना गया था कि बीरबाहा हंसदा उनके जूते के नीचे रहने लायक है।

अधिकारी की टिप्पणी कुछ हद तक इस प्रकरण से मेल खाती है, जब राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर तृणमूल कांग्रेस के नेता और पश्चिम बंगाल के सुधार सेवा मंत्री अखिल गिरि ने अपमानजनक टिप्पणी की थी और उस पर राज्य का राजनीतिक माहौल गरमा गया था।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गिरि की टिप्पणियों के लिए व्यक्तिगत रूप से माफी मांगी थी और यह भी सवाल किया था कि आदिवासी समुदाय की एक महिला बीरबाहा हंसदा के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने वाले शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए।

बुधवार को हंसदा ने झारग्राम थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई।

उन्होंने कहा कि शुभेंदु अधिकारी ने हंसदा के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करके वास्तव में पूरे आदिवासी समुदाय का अपमान किया है।

हंसदा ने कहा, मैं विधानसभा में आदिवासी समुदाय का प्रतिनिधित्व करती हूं। इसलिए, इस तरह की टिप्पणियों से पूरे समुदाय की भावनाएं आहत होती हैं। शुभेंदु अधिकारी खुद एक जनप्रतिनिधि हैं। इस तरह की टिप्पणियां स्वीकार्य नहीं हैं..।

उन्होंने यह भी बताया कि प्राथमिकी अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के तहत दर्ज की गई है।

इस बीच, विपक्ष के नेता की टिप्पणी के विरोध में तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को कई स्थानों पर धरना-प्रदर्शन किया। राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी ने भी इस मामले में बड़े पैमाने पर सोशल मीडिया अभियान शुरू किया है।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

From around the web