महिलाएं आगे बढ़ेंगी तभी परिवार आगे बढ़ेगा : नीतीश

पटना, 14 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि महिलाएं आगे बढ़ेंगी, तभी परिवार आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि बिहार में महिलाओं के उत्थान के लिए विशेष पहल की गई है।
 
महिलाएं आगे बढ़ेंगी तभी परिवार आगे बढ़ेगा : नीतीश
महिलाएं आगे बढ़ेंगी तभी परिवार आगे बढ़ेगा : नीतीश पटना, 14 नवंबर (आईएएनएस)। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि महिलाएं आगे बढ़ेंगी, तभी परिवार आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि बिहार में महिलाओं के उत्थान के लिए विशेष पहल की गई है।

उन्होंने कहा कि बिहार में महिलाओं को पुलिस की बहाली में 35 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है, जिसका परिणाम है कि आज बिहार पुलिस में महिलाओं की संख्या 25 हजार से ज्यादा हो गई है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि देश के किसी अन्य राज्य के पुलिस बल में महिलाओं की इतनी संख्या नहीं है।

मुख्यमंत्री सोमवार को जल संसाधन विभाग के नवनियुक्त कनीय लेखा लिपिक एवं निम्नवर्गीय लिपिकों के नियुक्ति पत्र वितरण-सह-उन्मुखीकरण समारोह में शामिल हुए।

समारोह में 480 नवनियुक्त निम्नवर्गीय लिपिक, 485 नवनियुक्त कनीय लेखा लिपिक एवं 32 कनीय अभियंताओं (असैनिक) सहित कुल 1,006 नवनियुक्त अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त अभ्यर्थियों को सांकेतिक रूप से नियुक्ति पत्र प्रदान किया।

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, जल संसाधन विभाग में रिक्त पदों पर बहाली में काफी देरी हो रही थी, हमने कहा कि नियुक्ति की प्रक्रिया में तेजी लाकर इस काम को पूरा करें, ताकि मामला पेंडिंग न रहे।

उन्होंने कहा, इसी वर्ष फरवरी माह में 320 सहायक अभियंताओं की नियुक्ति की गई है और 2,086 कनीय अभियंताओं की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की गई है। हमलोग चाहते हैं कि जरूरत के मुताबिक पदों का सृजन करके बहाली करें रिटायर्ड लोगों की जगह ससमय नए लोगों को बहाल करें।

उन्होंने कहा, बिहार के तीन चौथाई लोग कृषि पर निर्भर हैं। हमलोगों ने चार वर्ष के अंदर हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है और इस दिशा में तेजी से काम आगे बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2022 तक लगभग 4 लाख 39 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई क्षमता सृजित की गई है। इसके अलावा 17 लाख 67 हजार क्षेत्र में सिंचाई क्षमता को पुनस्थापित किया गया है। 55 सिंचाई योजनाओं को भी पूरा कर उसे जनता को समर्पित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, बिहार तो गरीब राज्य है। हमलोग लगातार बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करते रहे हैं। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाता तो स्थिति काफी बेहतर होती।

उन्होंने कहा कि बिहार में कई जगहों पर चौर क्षेत्र हैं। यदि चौर क्षेत्र के एक हिस्से में गड्ढा खोदकर मछली पालन और मखाना उत्पादन के साथ-साथ मिट्टी वाले भाग में औषधीय पौधों की खेती की जाए तो इससे लोगों की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत होगी।

--आईएएनएस

एमएनपी/एसजीके

From around the web