बच्चों के लिए खरीदे जाने वाले टैबलेट में भी भारी भ्रष्टाचार कर बैठी केजरीवाल सरकार-मीनाक्षीलेखी

नई दिल्ली, 17 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने आज दिल्ली बीजेपी कार्यालय पर कहा कि सुकेश चंद्रशेखर द्वारा छठवां पत्र जारी की गया है, जिसमें उसने केजरीवाल को टैब खरीदने के मामले में हुए भ्रष्टाचार पर पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए चुनौती दी है। जबकि दूसरी ओर सत्येन्द्र जैन की छठवीं बार जमानत खारिज हो गई है लेकिन बावजूद इसके केजरीवाल ने अभी भी उनसे मंत्री पद का इस्तीफा नहीं लिया है। इससे प्रमाणित होता है कि इस पूरे फसाद की जड़ अरविंद केजरीवाल ही हैं।
 
बच्चों के लिए खरीदे जाने वाले टैबलेट में भी भारी भ्रष्टाचार कर बैठी केजरीवाल सरकार-मीनाक्षीलेखी
बच्चों के लिए खरीदे जाने वाले टैबलेट में भी भारी भ्रष्टाचार कर बैठी केजरीवाल सरकार-मीनाक्षीलेखी नई दिल्ली, 17 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने आज दिल्ली बीजेपी कार्यालय पर कहा कि सुकेश चंद्रशेखर द्वारा छठवां पत्र जारी की गया है, जिसमें उसने केजरीवाल को टैब खरीदने के मामले में हुए भ्रष्टाचार पर पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए चुनौती दी है। जबकि दूसरी ओर सत्येन्द्र जैन की छठवीं बार जमानत खारिज हो गई है लेकिन बावजूद इसके केजरीवाल ने अभी भी उनसे मंत्री पद का इस्तीफा नहीं लिया है। इससे प्रमाणित होता है कि इस पूरे फसाद की जड़ अरविंद केजरीवाल ही हैं।

मीनाक्षी लेखी ने केजरीवाल और उनकी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि केजरीवाल का विकास मॉडल की एक पहचान है कि चाहे इस मॉडल से कोई काम हुआ हो या नहीं, लेकिन इस्तेहारों में केजरीवाल का चेहरा पूरी दिल्ली में चमकता रहा है और जमीन पर भ्रष्टाचार के नए कारनामें लिखे गए हैं। उन्होंने कहा कि सुकेश के पत्र में एक और खुलासा किया गया है कि दिल्ली सरकार ने छोटे बच्चों को टैबलेट देने के लिए एक चाइनीज कंपनी से डील की जिसमें 27 फीसदी कमीशन तय किया गया था। लेकिन उसे बढ़ाकर 40 फीसदी कर दिया गया है। साथ ही उन कमीशन के पैसों से थाईलैंड में जमीन खरीदने की भी बात कही गई।

अंत में मीनाक्षी लेखी ने कहा कि आज जिस तरह से किस्तों में केजरीवाल सरकार के भ्रष्टाचार के कारनामें सामने आ रहे हैं, वह पूरी दिल्ली देख रही है। आज जिस तरह से सिसोदिया और केजरीवाल के कारनामें एक-एक कर बाहर आ रहे हैं, वह बताता है कि केजरीवाल सरकार पिछले आठ सालों में सिर्फ भ्रष्टाचार कर पाई है और कुछ नहीं।

--आईएएनएस

मोईनुद्दीन गनी/एएनएम

From around the web