पाक सेना प्रमुख की दौड़ में लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर सबसे वरिष्ठ

कराची, 13 नवंबर (आईएएनएस)। लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर तकनीकी रूप से पाकिस्तान के सेना प्रमुख के पद की दौड़ में शीर्ष जनरलों में सबसे वरिष्ठ हैं। हालांकि, जल्द ही वह सेवानिवृत्त होने वाले हैं, स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट में असीम मुनीर की चर्चा तेजी से की जा रही है।
 
पाक सेना प्रमुख की दौड़ में लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर सबसे वरिष्ठ
पाक सेना प्रमुख की दौड़ में लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर सबसे वरिष्ठ कराची, 13 नवंबर (आईएएनएस)। लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर तकनीकी रूप से पाकिस्तान के सेना प्रमुख के पद की दौड़ में शीर्ष जनरलों में सबसे वरिष्ठ हैं। हालांकि, जल्द ही वह सेवानिवृत्त होने वाले हैं, स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट में असीम मुनीर की चर्चा तेजी से की जा रही है।

डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक- प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ सैद्धांतिक रूप से रास्ता खोज कर जनरल मुनीर को अगले सीओएएस के रूप में नियुक्त कर सकते हैं, क्योंकि उनके पास सेवानिवृत्ति से पहले लेफ्टिनेंट-जनरल को चार सितारा जनरल (सेना प्रमुख) के पद पर पदोन्नत करने का अधिकार है, यानी उनके करियर को तीन और साल के लिए बढ़ाया जा सकता है।

एक अंदरूनी सूत्र ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर डॉन को बताया, मियां साहब को लगता है कि यह सबसे वरिष्ठ व्यक्ति होने चाहिए, लेकिन दूसरे पक्ष का दृष्टिकोण अलग है। जिन विवादों ने जनरल बाजवा के लगातार कार्यकाल को चिह्न्ति किया है, नवाज इस बात से अवगत हैं कि उन्हें संतुलन बनाने की जरूरत है।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, सूत्र ने हंसते हुए कहा, छोटा शरीफ आदेश के अनुसार करेगा- किसके द्वारा, मुझे नहीं पता।

सूत्र ने कहा कि नवाज शरीफ को जरूरत के बारे में पता है, सवाल यह है कि सारांश आने पर क्या प्रधानमंत्री दबाव का सामना कर पाएंगे। कुछ विवेक को प्रबल होना होगा या चीजों के अलग-अलग दृष्टिकोणों के साथ दक्षिण की ओर जाने की संभावना है। दोनों पक्षों के पास खेलने के लिए कार्ड हैं, लेकिन नवाज शरीफ स्पष्ट हैं कि सारांश आने पर निर्णय लिया जाएगा।

डॉन की रिपोर्ट में कहा गया है, शरीफ भाइयों द्वारा कई कारकों पर विचार किया जा रहा है। एक, इस नियुक्ति से गंभीर नतीजे निकलते हैं। दूसरा, उनके और सेना के बीच विश्वास की भारी कमी है।

--आईएएनएस

केसी/एसजीके

From around the web