धर्मांतरण का खतरनाक खेल चल रहा है, बाहर से भी होती है फंडिंग प्रवेश साहिब सिंह

दिल्ली, 16 नवंबर (आईएएनएस)। बीजेपी सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने बुधवार को दिल्ली बीजेपी प्रदेश कार्यालय पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे देश में बहुत सारी ऐसी संस्थाएं हैं बहुत सॉरी ऐसी कंपनियां है, आदिवासी क्षेत्र हैं, जहां धर्मांतरण का खेल कराया जाता है। इसके अलावा दिल्ली सरकार के मंत्री, विधायक मंच पर शपथ दिलाते हैं कि कोई भगवान नहीं है, किसी की पूजा नहीं करनी चाहिए तो यह धर्मांतरण का पूरा एक खेल चल रहा है और इसमें बाहर से फंडिंग भी होती है। हमारी सरकार सुरक्षा एजेंसीज, इन पर कार्रवाई भी कर रही है।
 
धर्मांतरण का खतरनाक खेल चल रहा है, बाहर से भी होती है फंडिंग  प्रवेश साहिब सिंह
धर्मांतरण का खतरनाक खेल चल रहा है, बाहर से भी होती है फंडिंग  प्रवेश साहिब सिंह दिल्ली, 16 नवंबर (आईएएनएस)। बीजेपी सांसद प्रवेश साहिब सिंह ने बुधवार को दिल्ली बीजेपी प्रदेश कार्यालय पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारे देश में बहुत सारी ऐसी संस्थाएं हैं बहुत सॉरी ऐसी कंपनियां है, आदिवासी क्षेत्र हैं, जहां धर्मांतरण का खेल कराया जाता है। इसके अलावा दिल्ली सरकार के मंत्री, विधायक मंच पर शपथ दिलाते हैं कि कोई भगवान नहीं है, किसी की पूजा नहीं करनी चाहिए तो यह धर्मांतरण का पूरा एक खेल चल रहा है और इसमें बाहर से फंडिंग भी होती है। हमारी सरकार सुरक्षा एजेंसीज, इन पर कार्रवाई भी कर रही है।

केरल, हैदराबाद में तो सब कुछ चलता ही रहता है लेकिन आप लोग दिल्ली में देखिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री टोपी पहन के मस्जिद बनवा रहे हैं। कब्रिस्तान बनवा रहे हैं, मजार बनवा रहे हैं तो हमें तो दिल्ली को देखना है। कहीं केजरीवाल दिल्ली को केरल, हैदराबाद और कश्मीर ना बना दें।

केजरीवाल लगातार ऐसे लोगों को बढ़ावा देते हैं। आपने देखा होगा महरौली में आफताब नाम के लड़के ने श्रद्धा के टुकड़े-टुकड़े कर उसको मार डाला। पर यह कोई पहली घटना नहीं है। नंद नगरी में आप देखो, एक घटना हुई और पटेल नगर में हुई। जहां देखो वहां हिंदू मारा जा रहा है और अरविंद केजरीवाल इसको बढ़ावा दे रहे हैं। मैं अपनी सभी बहन बेटियों से आग्रह करना चाहता हूं कि इस तरह के जेहाद में ना फंसे और अपने मां-बाप की बात सुनें। आप लोग केरल की बात कर रहे हो। दिल्ली में अरविंद केजरीवाल का बस चले तो हर बस स्टैंड को मस्जिद का शेप दे दें।

--आईएएनएस

गनी/एसकेपी

From around the web