दिल्ली एलजी की लोकायुक्त में जांच निदेशक का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी

नई दिल्ली, 16 नवंबर (आईएएनएस)। दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना ने लोकायुक्त में निदेशक (जांच) का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।
 
दिल्ली एलजी की लोकायुक्त में जांच निदेशक का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी
दिल्ली एलजी की लोकायुक्त में जांच निदेशक का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी नई दिल्ली, 16 नवंबर (आईएएनएस)। दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना ने लोकायुक्त में निदेशक (जांच) का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

प्रशासनिक सुधार विभाग के एक सूत्र ने कहा कि एलजी ने लोकपाल की जांच शाखा के प्रमुख के लिए पर्याप्त वरिष्ठता के साथ निदेशक (जांच) के पद के सृजन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है, इसके अलावा सहायकों और चपरासी के दैनिक कामकाज के लिए आवश्यक पद सृजित किए गए हैं।

सार्वजनिक पदाधिकारियों द्वारा भ्रष्टाचार की शिकायतों को देखने के लिए अधिकृत निकाय बिना जांच प्रभारी के है। सूत्रों ने कहा- दिल्ली में लोकायुक्त, अपनी स्थापना के बाद से निदेशक (जांच) और अन्य सहायक कर्मचारियों, चपरासी की कमी के कारण अपंग हो गया है। लकिन अब आवश्यक सहायकों और चपरासी के अलावा निदेशक (जांच) का पद सृजित करने के लिए लोकायुक्त के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

सूत्र ने कहा कि एलजी सक्सेना ने लोकायुक्त की वार्षिक रिपोर्ट को विधानसभा में पेश करने के लिए मंजूरी देते हुए हाल ही में लोकायुक्त की खामियों को उजागर किया था और मुख्यमंत्री को उन्हें ठीक करने की सलाह दी थी। लोकायुक्त ने अपनी लगातार रिपोटरें में यह दशार्या कि लोकायुक्त के सुचारू और कुशल कामकाज में कई बाधाएं सामने आ रही हैं। इनमें से कुछ वित्तीय स्वायत्तता और पर्याप्त कर्मचारियों की कमी के कारण लोकायुक्त की स्वतंत्रता से संबंधित हैं, जो लोकायुक्त के कार्यालय के समुचित कार्य के लिए अनिवार्य हैं।

सूत्रों ने कहा- लोकायुक्त ने बार-बार कहा था कि, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दिल्ली में लोकायुक्त को कोई जांच एजेंसी उपलब्ध नहीं कराई गई है और सहायक निदेशक (जांच) के रूप में तैनात एक व्यक्ति ही दिल्ली लोकायुक्त के पास जांच का एकमात्र साधन है।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

From around the web