उत्तराखंड के शिक्षण संस्थानों में स्काउट एंड गाइड्स अनिवार्य : शिक्षा मंत्री

देहरादून, 16 नवंबर (आईएएनएस)। उत्तराखंड के सभी शिक्षण संस्थानों में भारत स्काउट एंड गाइड्स की इकाइयां अनिवार्य रूप से स्थापित की जाएंगी, ताकि बच्चों को स्कूली शिक्षा के साथ-साथ अनुशासन तथा व्यावहारिक नैतिक मूल्यों का भी ज्ञान प्राप्त हो सके। इस व्यवस्था को राजकीय शिक्षण संस्थानों के साथ ही निजी शिक्षण संस्थानों, संस्कृत विद्यालयों व मदरसों में भी लागू किया जाएगा। इसी प्रकार उच्च शिक्षा के अंतर्गत महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में रोवर रेंजर की इकाइयां स्थापित की जाएंगी।
 
उत्तराखंड के शिक्षण संस्थानों में स्काउट एंड गाइड्स अनिवार्य : शिक्षा मंत्री
उत्तराखंड के शिक्षण संस्थानों में स्काउट एंड गाइड्स अनिवार्य : शिक्षा मंत्री देहरादून, 16 नवंबर (आईएएनएस)। उत्तराखंड के सभी शिक्षण संस्थानों में भारत स्काउट एंड गाइड्स की इकाइयां अनिवार्य रूप से स्थापित की जाएंगी, ताकि बच्चों को स्कूली शिक्षा के साथ-साथ अनुशासन तथा व्यावहारिक नैतिक मूल्यों का भी ज्ञान प्राप्त हो सके। इस व्यवस्था को राजकीय शिक्षण संस्थानों के साथ ही निजी शिक्षण संस्थानों, संस्कृत विद्यालयों व मदरसों में भी लागू किया जाएगा। इसी प्रकार उच्च शिक्षा के अंतर्गत महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में रोवर रेंजर की इकाइयां स्थापित की जाएंगी।

शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने बुधवार को विद्यालयी शिक्षा महानिदेशालय ननूरखेडा में भारत स्काउट एंड गाइड्स उत्तराखंड की बतौर अध्यक्ष पहली समीक्षा बैठक ली। उन्होंने सूबे के समस्त निजी एवं राजकीय शिक्षण संस्थानों में स्काउट एंड गाइड अनिवार्य रूप से लागू करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

डॉ. रावत ने कहा कि वर्तमान परिवेश में छात्र-छात्राओं को स्कूली शिक्षा के साथ-साथ अनुशासन, सामाजिक एवं नैतिक मूल्यों की भी जानकारी होना जरूरी है, जो उनको स्काउट-गाइड के रूप में आसानी से दी जा सकती है, ताकि बच्चों का सर्वागीण विकास हो सके। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 में भी स्कूलों में स्काउट एंड गाइड्स को अनिवार्य रूप से लागू करने की संस्तुति की गई है। इसको देखते हुए सूबे में विद्यालयी शिक्षा के साथ-साथ संस्कृत शिक्षा व मदरसा बोर्ड के अंतर्गत समस्त शिक्षण संस्थानों में भी स्काउट एंड गाइड्स की इकाई स्थापित की जाएगी। इसी प्रकार उच्च शिक्षा के अंतर्गत समस्त शिक्षण संस्थानों एवं विश्वविद्यालयों में रोवर रेंजर की इकाइयां गठित की जाएंगी।

मंत्री ने बताया कि स्काउट एंड गाइड व रोवर रेंजर में पंजीकृत छात्र-छात्राओं को नशा मुक्ति अभियान, टीबी उन्मूलन, नमामि गंगे व स्वच्छ भारत अभियान से भी जोड़ा जाएगा। डॉ. रावत ने कहा कि प्रदेश के सभी जनपदों में जिला स्काउट मास्टर के रिक्त पदों पर शीघ्र तैनाती की जाएगी।

स्काउट एंड गाइड्स उत्तराखंड के सचिव आर.एम. काला ने स्काउट-गाइड की गतिविधियों एवं संचालन को लेकर विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण के लिए देशभर में कई प्रशिक्षण केंद्र स्थापित हैं, जिनमें से उत्तराखंड में दो प्रादेशिक प्रशिक्षण केंद्र शीतलाखेत, अल्मोड़ा व प्रादेशिक कैम्पिंग सेंटर, भोपालपानी, देहरादून भी शामिल है। उन्होंने बताया कि स्काउट एंड गाइड के मुख्य रूप् से संगठन, प्रशिक्षण, प्रशासकीय व प्रबंधन चार घटक हैं। इसके अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया जाता है। 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के छात्रों के लिए 100 से अधिक स्किल्स प्रशिक्षण हैं, प्रदेश में लगभग 80 प्रकार की गतिविधियों का आयोजन किया जाता है, जिसमें स्टार गैजिग, मैप-रीडिंग, पायनिंयरिंग, फास्टेड, इस्टीमेशन, फायर फाइटिंग, आपदा प्रबंधन, रीडरशिप, पर्सनाल्टी डेवलेपमेंट आदि प्रमुख रूप से शामिल है। उन्होंने बताया कि माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा से प्रदेश के छात्र-छात्राओं ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बाग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका, यूएसए, यूएई, मैनचेस्टर, यूके आदि देशों में जम्बूरी में प्रतिभाग किया। इसके अलावा वर्ष 2021-22 में राष्ट्रपति पुरस्कार के लिए 46 स्काउट-गाइड तथा 3 रोवर का चयन किया गया। इससे पहले विभाग की स्टेट चीफ कमिश्नर सीमा जौनसारी ने विभागीय मंत्री को भारत स्काउट एंड गाइड्स उत्तराखंड का अध्यक्षीय मैडलिन व स्कॉर्फ पहनाया।

बैठक में भारत स्काउट एंड गाइड्स उत्तराखंड के संरक्षक बंशीधर तिवारी, स्टेट चीफ कमिश्नर सीमा जौनसारी, स्टेट सेक्रेटरी आर.एम.काला, स्टेट कमिश्नर रघुनाथ लाल आर्य, स्टेट कमिश्नर गाइड वंदना गब्र्याल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

--आईएएनएस

स्मिता/एसजीके

From around the web