LAC पार कर भारतीय सीमा में घुस आया चीनी सैनिक, चीन ने दी समझौते की दुहाई

 

नई दिल्ली : चीनी सैनिकों द्वारा लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की कोशिश की जा रही है, इसे लेकर भारत सरकार ने भी LAC पर अधिक संख्या बलों में सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी है। वहीं चीन भी भारतीय सैनिकों की बढ़ती संख्या देखकर अपनी सीमा चीनी सैनिकों को संख्या बढ़ाई। चीन यहीं तक नहीं रूका, उसने भारतीय जवानों की सुरक्षा चौकसी को जांचने के लिए कई बार अपने सैनिकों को भारतीय सीमा भेजा। जिससे वो यहां की सुरक्षा व्यवस्था से अपनी सरकार को रूबरू करा सकें।

अब जब भारतीय सैनिकों द्वारा उनके सैनिक को पकड़ लिया जाता है, तो वे भारत और चीन के बीच हुए एक समझौते की दुहाई अपने सैनिक को छोड़ने की बात करते हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ। गौरतलब है कि शुक्रवार को एक चीनी सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा पार कर भारतीय सीमा में आ गया था, जिसे पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो के दक्षिणी तट पर भारतीय सेना द्वारा पकड़ लिया गया।

इसके बाद चीनी सेना की एक ऑनलाइन वेबसाइट पर चीनी सेना ने कहा कि, ''रात के अंधेरे और जटिल भौगोलिक स्थिति की वजह से चाइनीज पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के फ्रंटियर डिफेंस फोर्स का एक जवान शुक्रवार की सुबह भारत-चीन सीमा से गुम हो गया है। इसे लेकर पीएलए फ्रंटियर डिफेंस फोर्स ने भारतीय पक्ष को इस मामले में सूचित कर दिया है, इस उम्मीद में कि भारतीय पक्ष, खोए हुए चीनी सैनिक की खोज और बचाव में मदद करेगा।

वेबसाइट पर भारतीय प्रतिक्रिया के बारे में आगे लिखा है कि "लगभग दो घंटे बाद, भारतीय पक्ष की ओर से प्रतिक्रिया आई, यह पुष्टि करते हुए कि लापता सैनिक उन्हें मिल गया है और जैसे ही सक्षम प्राधिकरण से निर्देश मिल जाएंगे, चीन को उसका सैनिक वापस कर दिया जाएगा।''

वेबसाइट ने भारत को एक समझौते की याद दिलाते हुए लिखा कि, "भारतीय पक्ष को दोनों देशों द्वारा किए गए प्रासंगिक समझौतों का सख्ती से पालन करना चाहिए और बिना समय बर्बाद किए ही, खोए हुए चीनी सैनिक को चीन को वापस लौटा देना चाहिए, ताकि दोनों देशों के बीच सीमा तनाव को कम करने के लिए पॉजिटिव फैक्टर्स जोड़े जा सकें और दोनों देश संयुक्त रूप से सीमा पर शांति कायम रख सकें।''

आपको बता दें कि इस सैनिक की गिरफ्तारी ऐसे समय पर हुई है, जब भारतीय सेना और चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने बड़ी संख्या में अपने सैनिकों की तैनाती लद्दाख में की हुई है। इससे पहले भी 19  अक्टूबर को लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में LAC पार करके आए एक चीनी सैनिक को भारतीय सैनिकों ने पकड़ लिया था। लेकिन निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन करते हुए भारतीय सेना ने चीन को उसका सैनिक वापस कर दिया था।

बता दें कि मई महीने में पैंगोंग झील क्षेत्र में हुई झड़प के बाद से दोनों देशों के बीच लगातार तनाव जारी है, जिसके परिणाम स्वरूप दोनों देशों ने लद्दाख क्षेत्र में अपने-अपने सैनिकों और सुरक्षा बलों की संख्या बढ़ा रखी है।

From around the web