भारतीय मार्केट में इलेक्ट्रिक स्कूटरों की बढ़ती डिमांड को देखते हुए सभी चर्चित कंपनियां खुद की इलेक्ट्रिक स्कूटर अब मार्केट में पेश करने में लगी हुई हैं। सभी कंपनियां अपनी नई और दमदार फीचर्स वाली इलेक्ट्रिक स्कूटरों को मार्केट में पेश करती जा रही है। ऐसी ही एक इलेक्ट्रिक स्कूटर के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

इस स्कूटर का नाम है – Godawari EBLU Feo Electric Scooter, जिसे साल 2024 के मध्य तक भारतीय मार्केट में इंट्रोड्यूस किया जाएगा। इस इलेक्ट्रिक स्कूटर में आपको दमदार फीचर्स के साथ धांसू रेंज और शानदार स्पीड भी देखने को मिल जाती है। ऐसे में आइए जानते हैं Godawari EBLU Feo Electric Scooter के फीचर्स और कीमत के बारे में –

Godawari EBLU Feo Electric Scooter के धांसू फीचर्स

बता दें कि Godawari EBLU Feo Electric Scooter में आपको एक से बढ़कर एक दमदार और स्मार्ट फीचर्स देखने को मिल जाते हैं। इसमें आपको  एलइडी डिस्पले, टच स्क्रीन डिस्प्ले, लेदर सीट, रिवर्स कैमरा, डिजिटल स्पीडोमीटर, ऑडोमीटर, वन टच सेल्फ स्टार्ट, डिजिटल इंडिकेटर जैसे स्मार्ट फीचर्स दिए गए हैं।

वहीं इसके अलावा इस इलेक्ट्रिक स्कूटर में फोग लाइट, एलईडी लाइट लैंप, हाइलोजन लैंप, साइड स्टैंड, बैकलाइट, ब्लूटूथ कनेक्टिविटी, मोबाइल कनेक्टिविटी, एसएमएस अलर्ट, अलार्म, टाइमर घड़ी, डिजिटल कंसोल, डिजिटल इंस्ट्रूमेंट, एंटीलॉग ब्रेकिंग सिस्टम, साइड मिरर जैसे शानदार फीचर्स भी आपको मिल जाते हैं।

Godawari EBLU Feo Electric Scooter की बैटरी और मोटर

बता दें कि बेहतर राइडिंग एक्सपिरियंस के लिए Godawari EBLU Feo Electric Scooter में 3.4 Kwh की लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल किया गया है, जो 3.6 bhp की पावर और 110Nm का पीक टॉर्क पैदा करती है। वहीं इसके साथ ही आपको इस स्कूटर में पावरफुल BLDC मोटर का सपोर्ट भी दिया गया है।

Godawari EBLU Feo Electric Scooter की रेंज और टॉप स्पीड

Godawari EBLU Feo Electric Scooter में पावरफुल बैटरी की मदद से आपको सिंगल चार्ज में 260 किलोमीटर की तक की रेंज देखने को मिल जाती है। वहीं इसके साथ ही इसकी टॉप स्पीड 60 किलोमीटर प्रति घंटे की है।

Godawari EBLU Feo Electric Scooter की कीमत

आपको बता दें कि Godawari EBLU Feo Electric Scooter को 99000 रुपए की शुरुआती कीमत के साथ बाजार में लॉन्च किया जा सकता है।

Verify information accuracy with fact-checking: scrutinize claims, cross-reference sources, and confirm data to ensure reliability and combat misinformation.