जन्मदिन विशेष: स्वर कोकिला लता मंगेशकर के ये गाने आज भी लोग करते है पसंद

 

नई दिल्ली: स्वर कोकिला लता मंगेशकर पिछले कई दशकों से संगीत की दुनिया में अपनी खास जगह बनाए हुई हैं। आज स्वर कोकिला लता का जन्मदिन है। 28 सितंबर को लता अपना 91वां जन्मदिन मना रही हैं। सुरों से दुनिया का दिल जीतने वाली लता के जीवन में कई ऐसे सवाल हैं, जिनका जवाब फैंस जनाना चाहते हैं। ऐसा ही एक सवाल है कि उन्होंने आखिर शादी क्यों नहीं की? जन्मदिन के मौके पर आइए जानते हैं कुछ ऐसी ही दिलचस्प सवालों के जवाब।


लता मंगेशकर का जन्म 28 सितम्बर 1929 को इंदौर में हुआ था। लता मंगेशकर के पिता पंडित दीनानाथ मंगेशकर एक क्लासिकल सिंगर और थिएटर आर्टिस्ट थे।लता मंगेशकर का जन्म के वक्त नाम 'हेमा' रखा गया था, लेकिन कुछ साल बाद अपने थिएटर के एक पात्र 'लतिका' के नाम पर, दीनानाथ जी ने उनका नाम 'लता' रखा था। 


एक इंटरव्यू में लता जी ने बताया था कि जब वो 13 साल की थीं, तभी उनके पिता का स्वर्गवास हो गया था। ऐसे में घर के सभी सदस्यों की जिम्मेदारियां उन पर थी। कई बार शादी का ख्याल आता तो वे उस पर अमल नहीं कर सकती थीं। बहुत कम उम्र में ही वे काम करने लगी थीं। भाई-बहनों और घर की जिम्मेदारियों को देखते-देखते ही वक्त चला गया और वे ताउम्र शादी नहीं कर पाईं।


साल 1945 में लता मंगेशकर ने मुंबई का रुख़ किया। उन्होंने यहां अपनी एक अलग पहचान बनाई। लगभग सभी फेमस म्यूज़िक डायरेक्टर्स के साथ गाना गाया।  लता मंगेशकर अब तक एक हजार से अधिक फ़िल्मों के लिए गाने गाए हैं। वहीं, उन्होंने करीब 36 भाषाओं में गाना गाया है।
 

आइए सुनते हैं लता के जन्मदिन पर कुछ खास नगमें-
शोर फिल्म का इक प्यार का नगमा है मौजो की रवानी है...फैंस को आज भी जमकर पसंद आता है। ये गाना लता मंगेशकर ने गाया था।

जब लता मंगेशकर ने ए मेरे वतन के लोगों गाया तो हर किसी आंखे नम हो गईं। ये गाना आज भी आंखो में पानी दे जाता है।

From around the web