कौन है IPS शारदा राउत, जो मेहुल चोकसी को हथकड़ी लगाने पहुंची डोमिनिका

 
mehul

नई दिल्ली:  मेहुल चोकसी को डोमिनिका से वापस भारत लाया जाता है तो उसमें पंजाब नेशनल बैंक (PNB) धोखाधड़ी मामले की जांच अधिकारी शारदा राउत का बड़ा योगदान होगा। शारदा राउत सीबीआई के 8 अधिकारियों के साथ डोमिनिका में हैं। वे ही मेहुल चोकसी को वापस लाने के लिए ऑपरेशन को लीड कर रही हैं। 28 मई को ही ये टीम डोमिनिका पहुंच गई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अगर डोमिनिकन कोर्ट मेहुल चोकसी को डिपोर्ट का आदेश देता है, तो उसे भारतीय अधिकारियों की टीम एक प्राइवेट जेट में नई दिल्ली लाएगी। शारदा राउत उसे गिरफ्तार करेंगी।

शारदा राउत 2005 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। उनका जन्म महाराष्ट्र के नासिक में हुआ। पालघर में एसपी रहते हुए शारदा राउत ने क्राइम पर काफी हद तक कंट्रोल पा लिया। पुलिस विभाग में शारदा राउत के काम के तरीके और ईमानदारी की तारीफ होती है।

भारतीय अधिकारियों ने डोमिनिकन अधिकारियों के साथ कई बैठकें की हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सुनवाई में भारत का सही तरीके से प्रतिनिधित्व किया जा सके।

ईडी डोमिनिकन कोर्ट में एक ए़फिडेविट भी देता, जिसमें बताएगा कि मेहुल चोकसी की आपराधिक गतिविधियां क्या है। वह कैसे एक भारतीय नागरिक है और किस आधार पर उसे भारत निर्वासित किया जाना चाहिए। ईडी और सीबीआई यह समझाने की कोशिश करेंगे कि उनकी हिरासत में रखा गया व्यक्ति जनवरी 2018 से भारत में वॉन्टेड आरोपी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वित्तीय जांच एजेंसी डोमिनिका में मौजूद सीबीआई अधिकारियों के संपर्क में है। मेहुल चोकसी के खिलाफ ठोस सबूत भी साझा किए हैं।

एंटीगुआ से 23 मई को रहस्यमय तरीके से गायब होने के बाद मेहुल चोकसी को डोमिनिकन पुलिस ने गिरफ्तार किया। वहां आरोप लगा कि मेहुल चोकसी अवैध रूप से उनके देश में घुसा है। हालांकि मेहुल चोकसी ने आरोप लगाया है कि उसे एंटीगुआ से किडनैप किया गया। फिर डोमिनिका ले जाया गया, जहां साजिश के तहत पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

From around the web