सुस्ती से जूझ रही देश को इकोनॉमी बूस्ट देने के लिए तैयार सरकार, अगले दो साल तक देगी सरकार...

 

नई दिल्ली : कोरोना संकट महामारी से देश अभी उबरा भी नहीं था कि एक बार फिर सरकार देश को इकोनॉमी बूस्ट देने की तैयारी में है। आपको बता दें कि गुरुवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस को संबोधित कर बड़ी राहत दी है। इसके अंतर्गत उन्होंने आत्मनिर्भर भारत अभियान 3.0 के तहत 2,65,080 करोड़ रुपये के 12 उपायों की घोषणा की है।

कर्मचारियों को बड़ी राहत :-

आत्मिर्भर भारत योजना के अंतर्गत सरकार इससे जुड़े सभी कर्मचारियों को EPFO से जोड़ेगी। ऐसे कर्मचारी जो पहले पीएफ के लिए रजिस्टर्ड नहीं थे और जिनकी तनख्वाह 15 हजार से कम है उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा। इसके साथ ही उन लोगों को भी यह लाभ मिलेगा जो लोग अगस्त से सितंबर तक नौकरी में नहीं थे। आपको बता दें कि यह योजना 30 जून 2021 तक लागू रहेगी।

ये मिलेगा लाभ :-

  • सरकार 2 साल तक 1000 तक की संख्या वाले कर्मचारियों वाले संस्थाओं को नई भर्ती वाले कर्मचारियों के पीएफ का पूरा 24 फीसदी हिस्सा सब्सिडी के रूप में देगी, जो 1 अक्टूबर 2020 से लागू होगा। वहीं 1000 से ज्यादा कर्मचारियों वाले संस्थान में नए कर्मचारी के 12 फीसदी पीएफ योगदान के लिए सरकार 2 साल तक सब्सिडी देगी। आपको बता दें कि सरकार के इस योजना के अंतर्गत 95 फीसदी संस्थान आ जाएंगे, जिनके करोड़ों कर्मचारियों को इसका लाभ होगा।
  • कोविड वैक्सीन के रिसर्च और डेवलपमेंट के लिए 900 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।
  • निर्मला सीतारमण ने बताया कि कैपिटल और इंडस्ट्रियल एक्सपेंडीजर के लिए अतिरिक्त 10200 करोड़ रुपये जाएंगे। इससे रक्षा उपकरण बनाने वाली घरेलू कंपनियों और ग्रीन एनर्जी कंपनियो को फायदा होगा।
  • वित्त मंत्री ने कहा कि प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट बढ़ाने के लिए एक्जिम बैंक को 3000 करोड़ रुपये लाइन ऑफ क्रेडिट के रूप में दिए जाएंगे।
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार योजना (PGKRY) के अंतर्गत अब तक 116 जिलों में 37 हजार 543 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। इसके विस्तार के लिए 10 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त प्रावधान है, फर्टिलाइजर के लिए 65000 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी जाएगी। इससे 14 करोड़ किसानों को फायदा होगी।
  • सरकार NIIF के डेट प्लेटफॉर्म में 6000 करोड़ रुपये इक्विटी के रूप में निवेश करेगी।
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए अतिरिक्त 18 हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।
  • निर्मला सीतारमण ने बताया कि 10 सेक्टरों के लिए 1.46 लाख करोड़ रुपये की प्रोडक्शन लिंक्ड इनसेंटिव योजना बनाई गई है। इससे रोजगार और घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा मिलेगा। पहले यह योजना तीन क्षेत्रों में शुरू की गई थी।
  • निर्मला सीतारमण ने कहा कि कामत कमेटी की सिफारिश के अनुसार 26 दबावग्रस्त और स्वास्थ्य सेक्टर के लिए इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ईसीजीएलएस) के तहत लाभ दिया गया है। मूलधन चुकाने के लिए 5 साल का समय दिया गया है। आपको बता दें कि यह योजना 31 मार्च 2021 तक रहेगी। बता दें कि केंद्र सरकार ने कोरोना संकट के बीच MSME आसान शर्त पर कर्ज उपलब्ध कराने के लिए इस स्कीम को लॉन्च किया था। 
  • ESGLS योजना के अंतर्गत 61 लाख कर्जदारों को 2 लाख करोड़ से ज्यादा का लोन आवंटित कर दिया गया है। इसमें से 1.52 लाख करोड़ रुपये वितरित कर दिए गए हैं।
  • वहीं सरकार ने हाउसिंग क्षेत्र में एक बड़ी राहत देते हुए सर्कल रेट और एग्रीमेंट वैल्यू की छूट को बढ़ाकर 20 फीसदी कर दिया है। आपको बता दें कि ये छूट 2 करोड़ तक के मकान के लिए ही होगी। वहीं, पहली बार खरीदारी करने वाले लोगों के लिए ही ये छूट है। इसे 30 जून 2021 तक के लिए रखा गया है। इसके साथ ही सरकार ने सरकारी टेंडर में बयाना जमा-राशि (ईएमडी) पर भी बड़ी राहत दी है। आपको बता दें कि परफॉर्मेंस सिक्युरिटी को घटाकर 3 फीसदी कर दी है। बता दें कि ईएमडी के लिए टेंडर अनिवार्य होता है, जिसपर सरकार ने 31 दिसंबर 2021 तक के लिए राहत दी है।  
  • वित्त मंत्री ने बताया कि बैंकों ने 157.44 लाख किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड जारी किया हैं। वहीं, प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा के तहत 1681 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। NABARD के जरिए 25 हजार करोड़ रुपये की पूंजी आवंटित की गई है।
  • 28 राज्य और केंद्रशासित प्रदेश के वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना से जुड़ने की वजह से प्रवासी मजदूरों को हो रहा फायदा। पीएम स्वनिधि योजना के तहत 1373.33 करोड़ रुपये के 13.78 लोन आवंटित किए गए हैं।
  • निर्मला सीतारमण ने बताया कि आरबीआई ने तीसरी तिमाही में इकॉनमी के पॉजिटिव ग्रोथ का अनुमान जताया है। शेयर बाजार और मार्केट कैप की बढ़त हमारे प्रयासों का नतीजा है।
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि बीते दिनों लिए गए फैसलों की वजह से GST कलेक्शन बढ़ा है। सालाना आधार पर इसमें 10 फीसदी की तेजी आई है। वहीं, बैंक क्रेडिट में 23 अक्टूबर तक 5.1 फीसदी तेजी आई है। जबकि विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड स्तर पर है।

बता दें कि निर्मला सीतारमण आज इमरजेंसी क्रेडिट की सुविधा देने का भी एलान कर सकती हैं। इससे होटल, टूरिज्म और एविएशन सेक्टर को फायदा होगा. इतना ही नहीं कहा जा रहा है कि इससे ऑटोडीलर, टेक्सटाईल सेक्टर को भी फायदा होगा।

From around the web