NAVRATRI 2020 : जानिए इस नवरात्रि मां दुर्गा कौन सी सवारी पर आएंगी, क्या पड़ेगा प्रभाव

 

नई दिल्ली : शारदीय नवरात्र के शुरू होने में तकरीबन 16 दिन शेष है, उससे पहले ही लोगों में काफी उल्लास है। आपको बता दें कि इस पर्व को लेकर भक्त जन  लगातार तैयारियां कर रहे है और इस पर्व का बेसब्रि से इंतजार भी। इससे पहले हम आपको ये बता दें कि मां दुर्गा इस नवरात्रि कौन सी सवारी पर आ रही है, और इसका आप पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

आपको बता दें कि इस साल यह शारदीय नवरात्र 17 अक्टूबर से शुरू होकर 25 अक्टूबर तक चलेगा, जिससे इस साल यह नवरात्रि नौ दिनों का होगा। अगर हम इस साल मां दुर्गा के वाहन की बात करें तो मां दुर्गा का आगमन इस साल घोड़े पर होगा, जिससे पड़ोसी देशों के साथ युद्ध होने की संभावना है। वहीं देश में खून-खराबा भी बढ़ सकता है। अगर हम माता के विदा की बात करें तो माता रानी इस साल भैंस पर सवार होकर विदा होंगी।

बता दें कि देवी मां का भैंसे पर प्रस्थान के संबंध में मान्यता है कि यह देश में रोग और शोक बढ़ाता है। इस लिहाज से माता का आगमन अशुभ होगा। जानकारों के अनुसार देवी मां की वापसी का अर्थ कई तरह से समझा जा सकता है।

शशि सूर्य दिने यदि सा विजया महिषागमने रुज शोककरा।

शनि भौमदिने यदि सा विजया चरणायुध यानि करी विकला।।

बुधशुक्र दिने यदि सा विजया गजवाहन गा शुभ वृष्टिकरा।

सुरराजगुरौ यदि सा विजया नरवाहन गा शुभ सौख्य करा॥

नवरात्रि में भैंसे की बलि : मान्यता है कि जिस महिषासुर को देवी दुर्गा ने लड़ाई में मार गिराया, वो भैंसे से दुनिया घूमता था। महिषासुर पर जीत के उपलक्ष्य में कुछ जगहों पर उसकी सवारी की बलि देने की प्रथा है। ज्योतिष में भैंसे को असूर माना गया है, ऐसे में देवी मां का भैंसे पर गमन रोग और शोक के साथ ही कुछ हद तक युद्ध की ओर भी इशारा करता है।

From around the web