जानिए कब है चित्रगुप्त पूजा और इसकी विधि, जानें शुभ मुहूर्त

 

नई दिल्ली : हिंदी पंचांग के मुताबिक, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि के दिन श्री चित्रगुप्त महाराज की पूजा होती है, जो भाई दूज या यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है। आपको बता दें कि इस साल चित्रगुप्त पूजा 16 नवंबर सोमवार को है। बता दें कि कार्तिक शुक्ल द्वितीया तिथि का प्रारंभ 16 नवंबर को सुबह 07:06 बजे से हो रहा है, जो 17 नवंबर को तड़के 03:56 बजे तक है। ऐसे में आप चित्रगुप्त जी की पूजा 16 नवंबर को करें। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग सुबह 06:45 से दोपहर 02:37 तक है। विजय मुहूर्त दोपहर 01:53 बजे से दोपहर 02:36 तक है। अभिजित मुहूर्त दिन में 11:44 बजे से दोपहर 12:27 बजे तक है।

श्री चित्रगुप्त जी की उत्पत्ति कथा:

पौराणिक कथाओं की मानें तो, सृष्टि के रचानाकार ब्रह्मा जी ने चित्रगुप्त जी को उत्पन्न किया था। उनकी काया से उत्पन्न होने के कारण चित्रगुप्त जी कायस्थ भी कहे जाते हैं। उनका विवाह सूर्य देव की पुत्री यमी से हुआ है, इस वजह से वे यम के बहनोई भी कहे जाते हैं। आपको बता दें कि यम और यमी सूर्य देव की जुड़वा संतान हैं। यमी ही बाद में यमुना के स्वरुप में पृथ्वी पर आ गईं।

चित्रगुप्त पूजा विधि :

चित्रगुप्त पूजा के दिन शुभ मुहूर्त में एक चौकी पर चित्रगुप्त महाराज की तस्वीर स्थापित करें। उनको अक्षत्, फूल, मिठाई, फल आदि चढ़ा दें। अब एक नई कलम उनको अर्पित करें तथा कलम-दवात की पूजा करें। अब सफेद कागज पर श्री गणेशाय नम: और 11 बार ओम चित्रगुप्ताय नमः लिख लें। अब चित्रगुप्त जी से विद्या, बुद्धि तथा लेखन का अशीर्वाद लें।

चित्रगुप्त मंत्र:

इस दिन ओम श्री चित्रगुप्ताय नमः मंत्र का भी जाप करना उत्तम माना जाता है।

आपको बता दें कि देवताओं के लेखपाल चित्रगुप्त महाराज मनुष्यों के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा रखते हैं। कार्तिक शुक्ल ​द्वितीया को नई कलम या लेखनी की पूजा चित्रगुप्त जी के प्रतिरूप के तौर पर होती है। कायस्थ या व्यापारी वर्ग के लिए चित्रगुप्त पूजा दिन से ही नववर्ष का अगाज माना जाता है।

From around the web