छठ महापर्व को लेकर आपदा प्रबंधन विभाग ने जारी किया गाइडलाइंस, बिहार में भी रोक...

 

नई दिल्ली: छठ महापर्व के शुरू होने में महज दो दिन शेष है, उससे पहले ही आपदा प्रबंधन विभाग ने बड़ा गाइडलाइंस जारी कर दिया है। रविवार देर रात राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने दिशा-निर्देश जारी कर कहा कि छठ महापर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए नदियों व तालाबों में केंद्र सरकार के निर्देशों और सोशल डिस्टेंसिंग (दो गज दूरी) का पालन संभव नहीं है। ऐसे में लोगों को अपने घरों में ही इस बार छठ महापर्व का आयोजन करना होगा।

आपदा प्रबंधन विभाग ने स्पष्ट कर कहा कि, इस बार छठ महापर्व के दौरान किसी भी नदी, लेक, डैम या तालाब के छठ घाट पर किसी तरह के कार्यक्रम का आयोजन नहीं होगा। वहीं उन्होंने कहा कि छठ घाट के समीप कोई दुकान, स्टॉल आदि नहीं लगेगा। आपको बता दें कि पर्व के दौरान सार्वजनिक स्थल पटाखा, लाइटिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यक्रम पर पूरी तरह से रोक रहेगी।

आपको बता दें कि छठ पूजा की शुरूआत 18 नवंबर नहाय खाय से शुरू होगी, जो 19 को खरना, 20 सांध्य अर्ध्य और 21 को भोरवा अर्घ्य के साथ इस पर्व का समापन होगा। इसे लेकर आपदा विभाग ने कहा कि अर्घ्य के दौरान महिलाएं नदी व तालाब उतरेंगी, ऐसे में कोरोना महामारी फैलने की संभावना बढ़ जाता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप अपने घरों में यह महापर्व मनाये।   

वहीं बिहार की बात करें तो, बिहार सरकार ने भी छठ महापर्व को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया है। इसके तहत इस बार गंगा समेत राज्य की तमाम बड़ी नदियों के घाटों पर छठ पर्व का आयोजन नहीं होगा। आपको बता दें कि यह दिशा-निर्देश कोविड-19 को लेकर दिया गया है।

From around the web