Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

स्मृति ईरानी ने भी लगाई आस्था की डूबकी, फोटो हो रही है वायरल

प्रयागराज: आज 15 जनवरी को देश भर में मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जा रहा है। वहीं आज से ही प्रयागराज में शाही स्नान के साथ दिव्य कुंभ मेले का आरंभ हुआ है। कुंभ 2019 के आगाज के साथ ही मंगलवार सुबह सबसे पहले साधु-संतों का शाही जुलूस निकाला और शाही स्नान की परंपरा शुरू हुई।

शाही स्नान में इस बार आम लोगों के साथ साथ 14 अखाड़ों के साधु संत भी हिस्सा ले रहे हैं। जिनके स्नान के लिए अलग-अलग समय निर्धारित किया गया, जो मंगलवार सुबह से लेकर शाम तक जारी रहेगा। बता दें कि इससे पहले कुंभ में 13 अखाड़े ही हुआ करते थे, लेकिन इस बार किन्नर अखाड़े को मान्यता मिलने के बाद अखाड़ों की संख्या 14 हो गई है।

बताया जाता है कि 45 दिनों तक चलने वाले कुंभ में इस साल देश और दुनिया के 15 करोड़ से भी अधिक श्रद्धालु आस्था की डूबकी लगाने पधार रहे हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की एक तस्वीर जमकर वायरल हो रही है। जिसमें वह आस्था की डूबकी लगाती दिख रही हैं।

सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीर पोस्ट करते हुए स्मृति ईरानी ने लिखा, “kumbh2019 trivenisangam हर हर गंगे”। जिससे ऐसा लगता है कि उन्होंने भी कुंभ मेले में ‘शाही स्नान’ किया है। कुंभ मेले के आरंभ पर देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत अन्य नेताओं और मंत्रियों ने भी शुभकामनाएं दी है।

राष्ट्रपति ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट करते हुए कहा, “सभी देशवासियों, तीर्थयात्रियों और पूरी दुनिया से आए अतिथियों को मेरी बधाई। कुम्भ हमारी आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस भव्य आयोजन की व्यवस्था के लिए केंद्र और उत्त‍र प्रदेश सरकार की मैं सराहना करता हूं।”

वहीं वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने अपने पोस्ट में कहा कि, “प्रयागराज में आरंभ हो रहे पवित्र कुम्भ मेले की हार्दिक शुभकामनाएं। मुझे आशा है कि इस अवसर पर देश-विदेश के श्रद्धालुओं को भारत की आध्यात्मिक, सांस्कृतिक एवं सामाजिक विविधताओं के दर्शन होंगे। मेरी कामना है कि अधिक से अधिक लोग इस दिव्य और भव्य आयोजन का हिस्सा बनें।”

loading...