Breaking News
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • नवज्योत सिंह सिद्धू मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं: पंजाब सीएम अमरिंदर सिंह
  • ओमप्रकाश राजभर को तुरंत बर्खास्त करने के लिए सीएम योगी ने की राज्यपाल से सिफारिश
  • ब्रेग्जिट समझौते को संसद से पारित कराने के लिए एक नया मसौदा लाएंगे: Theresa May
  • ज्यादातर एक्जिट पोल्स में भाजपा की अगुवाई में एनडीए सरकार की फिर से वापसी की संभावना

अभी अभी: अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जुलाई को तय होगा मंदिर...

अयोध्या: अयोध्या के रामजन्म भूमि मामले में गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत में एक बार फिर से सुनवाई नहीं हो सकी। जिसके बाद इस मामले को आगामी 5 जुलाई तक के लिए आगे बढ़ा दिया गया है। वहीँ इससे पहले मंगलवार को को एससी में मुस्लिम पक्षकारों की बड़ी बहस हुई थी।

बतादें कि कई दशकों से अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद जमीन विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एकबार फिर से सुनवाई को आगे बढ़ा दिया है। गुरुवार को इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी थी, लेकिन मामले को अब आगामी जुलाई तक के लिए टाल दिया है। इससे पहले मंगलवार को अयोध्या मामले को बड़ी पीठ के पास भेजने या न भेजने को लेकर मुस्लिम पक्षकारों की ओर से दलीलें पूरी हो गईं थीं। जिसके बाद मामले पर गुरुवार को सुनवाई होनी थी, लेकिन अब मामले की सुनवाई 5 जुलाई को होगी वहीँ इससे पहले सभी पक्षों को दस्तावेजों को अंग्रेजी में ट्रांसलेट करवाने आदि के लिए समय दिया था।

कर्नाटक विवाद से दूर छत्तीसगढ़ में राहुल गांधी ने किया कुछ ऐसा कि बीजेपी को होने लगी टेंशन

वर्षों से विवादों में घिरे अयोध्या मामले में गुरुवार से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू होने के बाद उम्मीद जताई गयी थी कि अगर कोई अड़चन न लगी तो इस मामले पर लगातार सुनवाई होगी। लेकिन गुरुवार को भी इस मामले की सुनवाई को टाल दिया गया है। ऐसे में अब आगामी 5 जुलाई का इन्तेजार करना होगा जहाँ तय होगा कि मामले की सुनवाई डे टू डे होगी या नहीं।

कर्नाटक: 24 घंटे में गिर जाएगी येदियुरप्पा सरकार, SC ने माँगा है कुछ ऐसा?

वहीँ अयोध्या मामले की सुनवाई को साल 2019 के आम चुनाव तक टालने की भी मांग की जा रही है। विपक्ष को लगता है कि यह राजनीतिक मुद्दा बन गया है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट में मांग की गयी है कि इस मामले को 2019 के आम चुनाव के बाद तक टाल दिया जाए।

यह भी देखें-

loading...