Breaking News
  • नये ट्रैफिक नियमों में बढ़े हुए जुर्माने के खिलाफ हड़ताल पर ट्रांसपोर्टर्स
  • यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने किया है हड़ताल का आहवाहन
  • महाराष्ट्र दौरे पर पीएम मोदी, नासिक से करेंगे चुनाव प्रचार अभियान का आगाज
  • साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में 7 विकेट से जीता भारत

गायत्री प्रजापति के आवास समेत 22 ठिकानों पर छापा, खनन घोटाले समेत...

नोएडा : अखिलेश यादव सरकार में खनन मंत्री रहे गायत्री प्रजापति के आवास समेत 22 ठिकानों पर सीबीआई ने आज यानी बुधवार को छापेमारी की। जिस दौरान उनके परिजनों से भी पूछताछ की गई है। वैसे तो प्रजापति अभी बलात्कार मामले में जेल में बंद हैं। इस मामले में उन्होंने बेल के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट से अपील भी की थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। आपको बता दें कि प्रजापति खनन घोटाले मामले में भी आरोपी है, जिस कारण सीबीआई ने उनके इन ठिकानों पर छापा मारा है।

बता दें कि प्रजापति पर खनन के भी कई बार आरोप लग चुके है। गौरतलब है कि यह खनन घोटाला समाजवादी पार्टी की सरकार में वर्ष 2012 से 2016 के बीच हुआ था। जिसके बाद सीबीआई ने कोर्ट में अपील की थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई इस घोटाले की जांच कर रही है। हाईकोर्ट ने दो अलग-अलग जनहित याचिकाओं पर 28 जुलाई 2016 को अवैध खनन की जांच के आदेश दिए थे। जांच में सीबीआई को साल 2012-16 के दौरान हमीरपुर जिले में बड़े स्तर पर अवैध खनन किए जाने के साक्ष्य मिले, जिससे व्यापक पैमाने पर सरकारी राजस्व को क्षति पहुंची।

उत्तर प्रदेश में अवैध खनन के मामले में सीबीआई 11 लोगों के खिलाफ एक मामला दर्ज कर चुकी है। जिसमें प्रमुख हमीरपुर जिले की पूर्व कलेक्टर और आईएएस अधिकारी बी. चंद्रकला, खनिक आदिल खान, भूवैज्ञानिक/खनन अधिकारी मोइनुद्दीन, राम आश्रय प्रजापति, हमीरपुर के खनन विभाग के पूर्व क्लर्क संजय दीक्षित, उनके पिता सत्यदेव दीक्षित, समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता रमेश कुमार मिश्रा, उनके भाई दिनेश कुमार मिश्रा और रामअवतार सिंह के नाम शामिल हैं। बता दें कि संजय दीक्षित ने 2017 विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के टिकट पर चुनाव लड़ा था।

loading...