Breaking News
  • संसद के मॉनसून सत्र से पहले लोकसभाध्यक्ष ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
  • गुजरात में बारिश से अबतक 28 की मौत, यूपी-एमपी में अलर्ट
  • मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी टीडीपी, विपक्षी दलों से मांगा समर्थन
  • भारत-इंग्लैंड के बीच तीसरा और निर्णायक वनडे मैच

आसमान से रहमत बरसाने के लिए अदा की गई खास नमाज

Namaaz bhadhoi

भदोही:- उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में मानसून की बेरुखी से किसान और आम लोग परेशान हैं। यहां रविवार को विशेष नमाज 'इस्तस्का' अदा की गई, ताकि आसमान से रहमत बरसे। संयोगवश नमाज के बाद आसमान में काले मेघ उमड़ने लगे और कुछ क्षेत्रों में ठंडी हवाओं के साथ हल्की बारिश भी हुई।

शहर के काजीपुर स्थित फकीर सेठ के अहाते में करीब एक हजार मोमिन जुटे। नमाजियों ने कहा, "देखा, दुआओं में बड़ी ताकत होती है। ऊपर वाले से की गई दुआएं अपना असर जरूर दिखाती हैं।"

देश के कुछ हिस्सों में बारिश कहर परपा रही है, जबकि कालीन नगरी समेत आसपास के जिलों में सूखे जैसे हालत बने हुए हैं। रूठे काले मेघों को मनाने के लिए रविवार को कालीन नगरी के मोमिनों ने विशेष नमाज पढ़ी। इस दौरान आधे घंटे तक तीखी धूप में खड़े होकर करीब एक हजार की तादात में लोगों ने दुआख्वानी की, जिसका असर दोपहर बाद दिखा भी और आसमान में कालीपट्टी नजर आई।

मौसम विभाग के अनुमान को मानसून ने इस साल पूरी तरह से गलत साबित कर दिया। देर से काले मेघों के आने और झमाझम बारिश करने के दावे को पिछले एक पखवाड़ से पड़ रही भीषण गर्मी ने धता बता दिया है। खेतों से उड़ रही धूल अन्नदाताओं के माथे पर बल ला रही है। धान समेत अन्य खरीफ फसलों की बुआई व छिटाई बाधित है। आम आदमी तीखी धूप, लू से बेहाल है।

कारी नजीर ने बरसात के लिए विशेष नमाज 15 मिनट तक पढ़ाई। इसके बाद तीखी धूप में आधे घंटे तक खड़े होकर लोगों ने रो रोकर बरसात के लिए अल्लाह से दुआएं मांगी।

कारी शमसुद्दीन ने बताया कि वर्षों पहले ऐसा ही मंजर मक्का में आया था। उस दौरान लोगों ने एक मैदान में खड़े होकर नमाज पढ़कर अल्लाह से गुनाहों की माफी मांगी थी। इसके बाद कहर खत्म हो गया था।

loading...