Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

भड़काऊ बायानों के कारण प्रतिबंधित हुईं मायावती ने चुनावा आयोग पर भी दिया विवादित बयान!

लखनऊ: विवादित बायानों के कारण चुनावा आयोग द्वार चुनावी सभाओं पर रोक लगाए जाने के बाद अब मायावती ने आयोग को लेकर भी एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने आयोग पर जातिवादी मानसिकता से ग्रस्त होने का आरोप लगाया है। बता दें कि चुनावी सभा में विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए चुनावा आयोग मायावती के अलावा योगी आदित्यनाथ, आजम खान, मेनका गांधी पर भी प्रतिंबध लगाने का फैसाल लिया है।

प्रतिंबधित नेताओं में से एक नाम बसपा प्रमुख मायावती का भी है। जिन्होंने सहारनपुर में रैली के दौरान मुसलमानों से अपने पक्ष में वोट की अपील की थी। जिसे आयोग ने आचार संहिता का उलंघन मानते हुए 48 घंटे के लिए किसी भी प्रकार क चुनावी कार्रयक्रम पर रोक लगा दी है। आयोग द्वारा प्रतिबंध लगाये जाने के बाद मायावती ने मीडिया से बात कारते हुए आयोग पर सवाल खड़े किए हैं।

सोमवार रात लखनऊ में प्रेसवार्ता के दौरान मायावती ने कहा कि उन्होंने कोई भी धार्मिक माहौल खराब नहीं किया। आयोग ने कार्रवाई से पहले जो नोटिस उन्हें भेजा था, उसमें भड़काऊ भाषण के मुद्दे का कोई जिक्र नहीं था। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ने बिना मेरा पक्ष सुने ही मुझ पर प्रतिबंध लगा दिया।

मायावती ने कहा कि आयोग के फैसले के बाद अब अगले दो दिन वह रैलियों में हिस्सा नही ले सकेंगी लेकिन कार्यकर्ता मेरा संदेश लोगों तक जरूर पहुंचाएंगे। उन्होंने कहा कि, चुनाव आयोग ने एकतरफा फैसला दिया है। मुझे बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार से वंचित कर दिया गया है। इस दिन को चुनाव आयोग के इतिहास में एक काले दिन के रूप में जाना जाएगा। उन्होंने आयोग पर प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह को खुली छूट देने का भी आरोप लगाया।

loading...