Breaking News
  • चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट में आज चार नए जजों को दिलाई शपथ
  • ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम की सफलता पर भड़का पाकिस्तान
  • आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान, पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकी कैंपों को फिर से सक्रिय कर दिया है
  • गृह मंत्री ने कहा कि कहा कि 2021 की जनगणना में मोबाइल एप का प्रयोग होगा

बीजेपी के लिए साख तो सपा के लिए इज्जत की बात, जानिए कौन है आमने सामने

लोकसभा चुनाव 2019 के छह चरण के मतदान के बाद अब आखिरी चरण के चुनाव होने है। जिसके लिए प्रशासन से लेकर तमाम नेताओं ने कमर कस लिया है। आपको बता दें कि 19 मई को आखिरी चरण के चुनाव होने है जिस दौरान 8 राज्यो के 59 सीटों पर मतदान डाले जाएंगे। जिसमें यूपी के भी 12 सीटों पर मतदान होने है। बता दें कि 2014 के चुनाव के दौरान सातवें चरण के चुनाव में होने वाले अधिकतर सीटों पर बीजेपी का कब्जा था। जिससे एकबार फिर बीजेपी की यह कोशिश रहेगी की वह उस परिणाम को दुबारा दोहरा सकें।

रवि किशन : भोजपुरी फिल्मों से बॉलीवुड जगत की सीढ़ियां तय करने वाले रवि किशन को बीजेपी ने इस बार गोरखपुर से अपना उम्मीदवार बनाया है। जो पहले बीजेपी यानी यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के यहां से उम्मीदवार रहने तक था। जिसके बाद 2017 उपचुनाव के दौरान यह सीट समाजवादी पार्टी के खाते में चली गई थी। जिसके बाद अब फिर इस सीट को पाने के लिए बीजेपी ने जहां रवि किशन को सामने लाकर ब्राह्मण कार्ड खेला है, वहीं सपा ने भी रामभुआल निषाद को लाकर एक बार फिर निषाद कार्ड खेला है। जबकि कांग्रेस ने मधुसूदन तिवारी को इस सीट से उम्मीदवार बनाया है। हालांकि बीजेपी ने प्रवीण निषाद को अपने पाले में लाकर निषादों को अपने साथ जोड़ने का कोशिश किया है।  

राजनीति जगत में किशन की इंट्री 2014 में हुई थी, जब उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर अपनी पैतृक सीट जौनपुर से चुनाव लड़ा था। उन्हें केवल 42759 वोट मिले और वे हार गए। 2017 में उन्होंने नरेन्द्र मोदी से प्रभावित होकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली।

मनोज सिन्हा : मनोज सिन्हा को बीजेपी ने गाजियाबाद सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है। जो वर्तमान सरकार में रेलवे राज्यमंत्री और संचार राज्यमंत्री (स्तंत्र प्रभार) का पद पर कार्यरत है। राजनीति क्षेत्र में इनकी इंट्री छात्र जीवन में ही हो गया था, जब वे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) - बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के छात्र थे। वर्ष 1989-96 के मध्य में वे राष्ट्रीय परिषद के सदस्य थे। वर्ष 1989 से 1996 तक वे राष्ट्रीय परिषद के सदस्य थे। 1996, 1999 और 2014 में उन्हें लोक सभा में निर्वाचित किया गया। 2014 लोकसभा चुनाव में अप्रत्याशित जीत के साथ सिन्हा ने गाजियाबाद सीट से अपनी जीत तय की। वहीं BSP ने बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी और कांग्रेस ने अजीत प्रताप कुशवाहा को अपना उम्मीदवार बनाया है।

महेंद्र नाथ पांडेय : लोकसभा चुनाव 2019 में उत्तर प्रदेश में कमल खिलाने की जिम्मेदारी बीजेपी ने इस बार  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडे के कंधों पर भी दिया है। जिसे बीजेपी ने चंदौली से अपना उम्मीदवार बनाया है। वहीं महागठबंन ने SP से संजय चौहान और कांग्रेस ने शिवकन्या कुशवाहा को अपना उम्मीदवार बनाया है।

पांडेय यूपी के पूर्वांचल से आते हैं। यूपी में राजनीतिक समीकरण को देखते हुए ब्राह्मण चेहरे के तौर महेंद्रनाथ को पार्टी की कमान दी गई है। ऐसे में 2019 के लोकसभा चुनाव में ब्राह्मण वोटरों को साधने की जिम्मेदारी उनके कंधो पर है। 2014 के लोकसभा चुनाव मे भी पार्टी ने इन्हें चंदौली लोकसभा सीट से टिकट देकर मैदान में उतारा था। जिसमें उन्होंने बसपा के अनिल मौर्य को करीब ढाई लाख मतों से मात देकर सांसद बने और मोदी सरकार में राज्यमंत्री चुने गए।

नरेन्द्र मोदी : नरेन्द्र मोदी स्वतन्त्र भारत में जन्म लेने वाले ऐसे व्यक्ति हैं जो सन 2001 से 2014 तक लगभग 13 साल गुजरात के 14वें मुख्यमन्त्री रहे और भारत के 14वें प्रधानमन्त्री बने। जो भारत के प्रधानमन्त्री पद पर आसीन है । मोदी भारतीय जनता पार्टी एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य भी हैं। एक सांसद प्रत्याशी के रूप में उन्होंने देश की दो लोकसभा सीटों वाराणसी तथा वडोदरा से चुनाव लड़ा और दोनों निर्वाचन क्षेत्रों से विजयी हुए।

loading...