Breaking News
  • आईसीसी महिला विश्व टी-20 चैम्पियनशिप के अंतिम ग्रुप मुकाबले में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया से
  • जममू-कश्मीर: पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए वोटिंग, जम्मू-21, घाटी-16 और लद्दाख के 10 ब्लॉको में वोटिंग
  • प्रधानमंत्री मोदी का मालदीव दौरा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह

इस बड़ी सीट से मायावती लड़ेंगी लोकसभा चुनाव, बीजेपी की हवा टाईट!

लखनऊ: सियासी दांव पेंच और गठबंधन-महागठबंधन के सहारे अपनी खोई ताकत को हासिल करने में लगी बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने अब खुद से चुनाव मैदान में उतरने का फैसला लिया है। वह आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी को टक्कर देने के लिए खुद मैदान में उतरने वाली हैं।

बतादें कि अपनी राजनीतिक और निजी तौर पर धुर विरोधी समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने वाली मायावती ने एकबार फिर से अपने समर्थकों में उत्साह भरने के लिए बड़ा कदम उठाने जा रही हैं। दरअसल खबरों में बताया जा रहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती खुद चुनावी मैदान में उतरेंगी। ख़बरों में बताया जा रहा है कि मायावती अपने पुराने क्षेत्र रहे बिजनौर या आंबेडकरनगर लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में खुद उतर सकती हैं। कयासों में कहा जा रहा है कि मायावती बिजनौर की नगीना लोकसभा सीट या अंबेडकरनगर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ सकती हैं।

नाश्ते पर अमित शाह-नीतीश कुमार की मुलाकात: नहीं बन सकी सीटों पर बात?

दरअसल 2012 से बहुजन समाज पार्टी का समय ठीक नहीं चल रहा है। 2012 में सपा के हाथों मिली हार के बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में खाता नहीं खुल सका। वहीँ 2017 में हुए राज्य विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को निराशा ही हाथ लगी। ऐसे में पार्टी के समर्थकों का मनोबल गिरता जा रहा है। जिसके कारण पार्टी को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसे में मायावती ने पहले ही सपा के साथ गठबंधन कर पार्टी के कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा भरने की कोशिश की,

राहुल के 'भाई' की जान लेना चाहता था दाऊद का शूटर, अबू धाबी से गिरफ्तार

लेकिन अब मायावती खुद चुनावी मैदान में उतरकर बीजेपी को टक्कर देने वाली हैं। यह जाहिर सी बात है कि 2014 में उत्तर प्रदेश की सभी सीटों पर लड़ने वाली बीजेपी 2019 में भी सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी, तो मायावती का बीजेपी से सीधा मुकाबला होगा। हालाँकि मायावती के चुनाव लड़ने के लिए सीट का फैसला अभी लिया नहीं गया है। यह फैसला गठबंधन के साथियों की सलाह पर किया जायेगा।  

यह भी देखें-

loading...