Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

छोटे भाई के सामने बड़े भाई ने उछाला बहन काअंतर्वस्त्र, जारी है बवाल

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के सियासी भवर में अपनी नैया पार लगाने में जुटे नेता लगातार मर्यादाओं का गला घोटते हुए एक दूसरे पर निशाना साध रहे हैं। ऐसा लगता है जैसे चुनावी मौसम में नेताओं के जुबान पर ग्लिसरीन लग जाता है। जिसके कारण जुबन खुलते ही फिसलने लगते हैं। नेताओं के फिसले जुबान पर पढ़िए हमारी खास रिपोर्ट....

दरअसल, चुनावी समर में अपना उल्लू सीधा करने के इरादे से नेता काफी जोश में दिख रहे हैं। सिर्फ दिख ही नही रहे बल्कि जोश में होश खोते हुए एक दूसरे के लिए अभद्र भाषाओं की झड़ी लगा दी है। ऐसे नेताओं की कतार बड़ी लंबी है, लेकिन इस कतार में प्रथम स्थान पर समाजवादी पार्टी के फायर ब्रांड नेता आजम खान सबसे आगे दिख रहे हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 के तहत अभी सिर्फ प्रथम चरण के लिए ही वोटिंग हुई है। लेकिन इस सीजन में भी आजम बाजी मारते दिख रहे हैं। हाल ही में आजम खान ने चुनावी महफली में बजरंग बली का जबरन धर्मांतरण कराकर बजरंग अली कर दिया। आजाम के इस बायन पर अभी आलोचनाओं का दौर खत्म भी नहीं हुआ था कि उन्होंने रामपुर से बीजेपी उम्मीदवार और फिल्म अभिनेत्री जयाप्रदा के लिए एक और विवादित बयान दे दिया।

रविवार को रामपुर में एक चुनावी सभा के दौरान आजम ने लोगों से पूछा कि, क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए। क्या आप उसे वोट देंगे? जयाप्रदा से नाराज आजम ने आगे कहा कि आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवेअर खाकी रंग का है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि जिस वक्त समाजवादी पार्टी के फायर ब्रांड नेता आजम खान भरी महफिल में एक महिला के अंतर्वस्त्र का उपहास उड़ा रहे थे, उस वक्त सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव भी वहां मौजूद थे, जिन्हें जयाप्रदा अपना छोटा भाई मानती है। लेकिन बहन की इज्जत सरेआम नीलाम हो रही थी और मंच पर मौजूद भाई के चेहरे पर उफ तक नहीं दिखी।

आजम खान के बयान पर पलटवार करते हुए जयाप्रदा ने कहा कि, कहा कि मैं आजम के डर से रामपुर छोड़कर नहीं जाऊंगी और उसे हराकर बताऊंगी की जया प्रदा क्या है। बता दें कि कभी आजम खान को राखी बांध कर भाई का दर्जा देने वाली जया ने यहां तक कह दिया कि अब वह मेरा भाई नहीं है। उन्होंने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि, यह मेरे लिए नया नहीं है। आपको याद होगा कि मैं साल 2009 में उनकी पार्टी (सपा) से प्रत्याशी थी, तब भी उन्होंने मेरे लिए ऐसी बातें की, लेकिन किसी ने मेरा समर्थन नहीं किया। मैं एक महिला हूं। उसने जो कहा वह मैं अपनी जुबान से बोल भी नहीं सकती।

रामपुर से समाजवादी पार्टी की सासंद रह चुकी जया ने आगे कहा कि, पता नहीं मैंने उसके लिए क्या किया कि वह इस तरह की भाषा बोल रहा है। उसके खिलाफ एफआईआर हुई है और बात जनता तक भी पहुंची है, लोग उसे छोड़ेंगे नहीं। जया ने आजम का चुनाव रद्द करने की मांग करते हुए कहा कि, अगर यह चुनाव जीतेगा तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई स्थान नहीं होगा। क्या मैं मर जाऊं तो आप लोगों को तस्सली होगी। क्या आपके घर में मां-बहू नहीं है?

loading...