Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • प्रमोद सावंत ने 11 मंत्रियों के साथ ली गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ
  • राजनयिकों को परेशान करने पर भारत ने #Pakistan को सुनाई खरी-खरी
  • आतंकियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक के कारण NDA को 13 सीटों का फायदा: सर्वे

कोमा में चला गया सबको हंसाने वाला ये मशहूर एक्‍टर, हालत देख उड़ जाएंगे होश

मुंबई:- सबसे पहले हम ये बता दें कि आजकल फिल्‍म जगत हो या टीवी जगत हर तरफ दुखों के काले बादल छाए हुए है। हर किसी के साथ कुछ न कुछ बुरा हो रहा है। अब हाल ही में एक ऐसी खबर का पता चला है जो बहुत ही दुखद है।

जैसा कि आप सभी कई सारे टीवी सीरियल देखते होंगे उनमें से कुछ ऐसे भी पात्र होते हैं जो अपनी अदाकारी से लोगों के दिलों पर अपनी छाप छोड़ जाते हैं वहीं इनमें कुछ बाल कलाकार भी होते हैं तो कुछ बडे कलाकार भी लेकिन अदाकारी तो अदाकारी है जिसने भी इसे अच्‍छे से निभाया है उसने लोगों का दिल जित लिया है फिल्‍मों के अलावा टीवी जगत में भी आपको ऐसे कई कलाकार देखने को मिल जाएंगे जिसकी अदाकारी के लोग दिवाने है।

जी हां आपने सबसे मशहूर शो ‘चिड़ियाघर’ के बारे में तो सुना ही होगा जो कि करीब 8 सालो से लोगों के दिलों में खास जगह बनाये हुआ है। इस सीरियल का आलम ये है कि लोग आज भी इससे बोर नहीं होते बच्‍चों के साथ साथ ये बड़ो का मनोरंजन भी करता है।

बता दें कि मेंढक यानि कि मनीष विश्वकर्मा का साल 2015 में एक हादसा हो गया था जिसकी वजह से वो कोमा चले गए थे। बतां दे कि ये एक्सीडेंट इतना भयानक था कि वो आसानी से ठीक नहीं हो पाए और वह कोमा में चले गये।

मनीष मिडिल क्लास फैमिली से आते हैं। उनके पिता की सिर्फ ब्रेड की दुकान है। त्रिभुवन उनके इलाज पर 45 लाख रुपए से ज्यादा खर्च कर चुके हैं।  पैसों के अरेंजमेंट के सवाल पर त्रिभुवन ने बताया, "मैंने अपनी पूरी सेविंग बेटे के इलाज पर लगा दी। लेकिन यह पैसा समुद्र में बूंद के बराबर था। मैंने बैंक से लोन लिया, हैवी ब्याज पर रिश्तेदारों से पैसे उधर लिए और बिना कुछ सोचे बेटे के इलाज में लगा दिए। इसके अलावा, शिल्पा शिंदे, परेश गणात्रा, CINTAA के मेंबर सुशांत सिंह और दूसरे कुछ लोगों ने भी हमारी आर्थिक मदद की।"

.

लेकिन पिछले दो महीने से वे दवाइयों पर नहीं हैं, बल्कि मेडिटेशन और फिजियोथेरेपी पर हैं।

loading...