Breaking News
  • छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 3:45 बजे तक 49.12 फीसदी वोटिंग
  • पीएम मोदी ने वाराणसी-हल्दिया राष्ट्रीय जलमार्ग देश को समर्पित किया
  • अफगानिस्तानः राजधानी काबुल में बड़ा धमाका, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर, कीमत सिर्फ 7 रुपये

नई दिल्ली: बढ़ते टेक्नोलॉजी के इस जमाने में आय दिन नए-नए नमूने देखने को मिल रहे हैं। इस क्रम में टेक्नोलॉजी के इस नए नमूने को देखकर और इसकी खासियत जानकर आप हैरान भी हो सकते हैं। इससे पहले आपको बता दें कि जब आप इस छोटे से डिवाइस को देखेंगे तो पहली नजर में शायद आप इसे देख भी न पाए, क्योंकि इसका आकार महज चावल के दो दाने के सामान है।

यहां जिस डिवाइस की बात करे हैं, उसे दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर बनाने का दवा IBM ने किया है। बताया जाता है कि यह कंप्यूटर अगले पांच साल के अंदर बाजार में भी आ जाएगा। दावा किया जाता है कि इस डिवाइस के साथ हैक होने का भी खतरा नहीं है। बताया जाता है कि इसका इस्तमाल उत्पादों को प्रमाणित करने से लेकर दवा को ट्रैक करने जैसे काम किया जा सकता है।

अगर ऐसा होता तो द्रोपदी के 5 नहीं बल्कि 14 पति होते!

कंपनी के अनुसार, यह माइक्रो कंप्यूटर एक एंटी फ्रॉड डिवाइस है जिसका मकसद है कि, ऐसी तकनीक को विकसित किया जाए जिसकी मदद से प्रोडक्ट्स पर वाटर मार्क लगाया जा सके। कंपनी के अनुसार, इससे चोरी और धोखाधड़ी के मामले भी कम होंगे। खबरों के अनुसार, इस अद्भुत डिवाइस में एक चिप लगी है, जो प्रोसेसर, मेमोरी और स्टोरेज से लैस है जिसे एक तरह के कंप्यूटर सिस्टम कहा जा सकता है।

बताया जाता है कि यह सिस्टम इतना सस्ता होगा कि इसे कोई भी खरीद सकता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कंपनी इसकी कीमत मात्रा सात रुपये रखेगी। जिसकी मदद से हर तरह के उत्पादों को सुरक्षित रखा जा सकता है। जानकारी के अनुसार, कंपनी ने करीब वन स्वॉयर मिलीमीटर साइज के इस डिवाइस को क्रिप्टो एंकर प्रोग्राम के तहत तैयार किया है, जिसके कारण इसे एंटी फ्रॉड डिवाइस कहा जा रहा है।

बीवी के बाद अब कर्नाटक CM की कार भी वायरल, जाने कीमत और खासियत

वहीं खबर है कि कंपनी कुल पांच तकनीक विकसित कर रहा है,  जिसमें मुख्य तौर पर क्रिप्टो एंकर व ब्लॉक चेन, लेटिस क्रिप्टोग्राफिक एंकर, एआई बायस, एआई पावर रोबोट माइक्रोस्कोप और क्वांटम कंप्यूटर है। अपने इस अनोके डिवाइस को लेकर कंपनी का दावा है कि इसकी मदद से किसी भी प्रोडक्ट के फैक्ट्री से निकलने से लेकर कंज्यूमर तक पहुंचने के बीच में होने वाली छेड़छाड़ या धोखाधड़ी के मामले पर लगाम लगया जा सकता है। वहीं यह डिवाइस नकली वस्तुओं की पहचान और  खाद्य सुरक्षा के साथ-साथ इनकी प्रामाणिकताओं का पता लगाने में भी मददगार साबित होगी।

इस नए खुलासे को जानकर हिल जाएंगे आप, अपनी बीवी की शादी दूसरे मर्द से करा दी!

loading...