Breaking News
  • संसद का शीकालीन सत्र आज से शुरू, प्रधानमंत्री ने कहा चर्चा होनी चाहिए
  • 5 राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिज़ोरम में मतगणना

जनता तो जनता देखिए कॉल ड्रॉप से कितना परेशान हुए पीएम

नई दिल्ली: घनी आवादी वाले देश भारत में कॉल ड्रॉप्स की परेशानी कोई नई बात नहीं है। कॉल ड्रॉप्स का मसला पिछले काफी समय से चर्चा का मुद्दा रहा है, लेकिन इसके बाद भी टेलीकॉम कंपनियां इसका पूर्ण सामाधान नहीं निकाल सकी है। बता दें कि कॉल ड्रॉप्स की परेशानी का असर सिर्फ आम जनता ही नहीं बल्कि देश के बड़े-बड़े लोग भी शामिल हैं और उन लोगों में से एक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी है।

खबरों के अनुसार प्रधानमंत्री जब दिल्ली एयरपोर्ट से अपने आधिकारिक आवास के लिए जा रहे थे तब उन्हें कॉल ड्रॉप्स की समस्या का सामना करना पड़ा और फिर उन्हें जनता की परेशानियों का ध्यान आया कि लोग इस परेशानी से किस कदर परेशान हो चुके हैं। जिसके बाद पीएम ने एक बैठक के दौरान टेलिकॉम डिपार्टमेंट को जरूरी निर्देश देते हुए कहा कि इस समस्या का सामाधान सुनिश्चित किया जाए।

आगया सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, अपराध नहीं रहा ‘पति- पत्नी और वो’ का रिश्ता

गौर हो क प्रधानमंत्री मोदी PRAGATI पहल के तहत हर महीने अपने बेहतरीन सचिवों के साथ मुलाकात और बातचीत करते हैं। इसी दौरान टेलिकॉम सेक्रटरी अरुण सुंदराजन ने कॉल ड्रॉप समेत ग्राहकों की शिकायतों के बारे में जानकारी दी। जिसके बाद प्रधानमंत्री ने अपनी बात कही।

टीवी पर LIVE दिखाई जाएगी कोर्ट की सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि पीएम ने कॉल ड्रॉप का जिक्र करते हुए कहा कि कैसे लोगों को दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद लगातार फोन लगाने का प्रयास करते दिखते हैं। उन्होंने कहा कि कॉल ड्रॉप अब एक राष्ट्रीय समस्या बन चुका है। अधिकारी के अनुसार अपनी बात करते हुए पीएम ने आगे कहा कि इस समस्या तत्काल समाधान करने की जरूरत है।

इन चीजों के लिए जरूरी नहीं है आधार कार्ड, पढ़िए सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

इसके साथ ही पीएम ने इस दौरान कॉल ड्रॉप से जुड़ी अन्य बातों पर भी चर्चा की। इस दौरान पीएम ने यह भी जानना चाहा कि कॉल ड्रॉप से निपटने के लिए टेलीकॉम कंपनियां क्या कर रही है। ऐसे मामलों में उनसे कितने का जुर्माना लिया जा रहा है। ऐसे अन्य कई विषयों पर भी पीएम ने गहन चर्चा की।

loading...