Breaking News
  • राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी के निधन के बाद आज होने वाले BJP संसदीय दल की बैठक रद्द
  • ओडिशा विधानसभा में आज से शुरू होगा मानसून सत्र
  • WC 2019 : लॉर्ड्स के मैदान पर आज भिड़ेंगे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया
  • राज्यसभा की दो सीटों पर अलग मतदान के विरोध में कांग्रेस की अपील पर SC में सुनवाई आज
  • 26 और 27 जून जम्मू-कश्मीर में रहेंगे शाह, करेंगे अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा

‘टिक-टॉक’ इस्तेमाल करने वालों को लगने वाला है बड़ा झटका!

नई दिल्ली: काफी कम समय के अंदर युवाओं के बीच अपनी एक अलग छाप छोड़ चुके फेमस वीडियो ऐप टिक-टॉक (TikTok) पर खतरे की तलवार लटक रही है। ‘आपत्तिजनक कंटेंट’ को बढ़ावा देने के मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने सरकार को ऐप पर बैन लगाए जाने के निर्देश दिये हैं।

बता दें कि बीजिंग की कंपनी द्वारा बनाई गई ‘TikTok’ ऐप पर यूजर्स शॉट वीडियो शेयर करते हैं। इस ऐप की एक सबसे बड़ी खासियत है कि इसपर यूजर्स लिप-सिंक से लेकर गानों पर डांस करते हुए भी वीडियो पोस्ट कर सकते हैं। इस ऐप ने कई लोगों को रातों-रात स्टार बना दिया, जबकि कुछ लोगों ने इसकी मदद से खुब पैसे भी बनाये।

हालांकि ‘आपत्तिजनक कंटेंट’ के मामले को लेकर भारत में पिछले काफी समय से ऐप का विरोध भी हो रहा है। ऐप के विरोध में दायर की गई एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने माना कि यह ऐप ‘आपत्तिजनक कंटेंट’ को बढ़ावा देती है, जिसके कारण इस पर बैना लगया जाना चाहिए।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कोर्ट ने कहा कि, जो बच्चे TikTok का उपयोग कर रहे है वे आसानी से यौन शिकारियों के संपर्क में आ सकते हैं। लिहाजा इस ऐप का इस्तेमाल खतरे से खाली नहीं है। साथ ही कोर्ट ने सरकार के ऐप बैन किए जाने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले फरवरी में मीडिया से बात करते हुए तमिलनाडु के आईटी मंत्री ने भी कहा था कि इस ऐप पर कुछ कंटेंट काफी ‘असहनीय’ होते हैं। जबकि भारतीय जनता पार्टी के करीबी एक हिंदू राष्ट्रवादी समूह ने भी ऐप पर पाबंदी की मांग कर चुकी है। आपको बता दें की चीनी कंपनी ने इस ऐप को चीन में साल 2016 में लांच किया था। जबकि विदेशी बाजार में इसे साल 2018 में लांच किया गया है।

loading...