Breaking News
  • सौदे की सीबीआई जांच की मांग वाली याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में खारिज
  • राफेल की गुणवत्ता पर सवाल नहीं, कीमत जानना जरूरी नहीं : सीजेआई
  • राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
  • पर्थ टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया ने जीता टॉस, पहले बल्लेबाजी का फैसला

मोबाइल से करते हैं पैसे का लेन-देन, तो हो जाइए सावधान!

नई दिल्ली: अगर आप भी डिजिटल पेमेंट के आदी हैं और छोटे से बड़ा काम बैंकिंग का काम भी एंड्राइड मोबाइल में बैंकिंग एप्लीकेशन से करते हैं तो आपके लिए बुरी खबर है। दरअसल दो ट्रोजन (वायरस) की पहचान हुई है, जोकि आपके एंड्राइड मोबाइल में बैंकिंग एप की जानकारी को स्टोर कर रहे हैं।

बतादें की एक रिपोर्ट में इस बाद का दावा किया जा रहा है कि भारत में दो नए ऐंड्रॉयड बैंकिंग ट्रोजन वायरस एंड्राइड मोबाइल के सभी एप की निगरानी कर उनका डाटा स्टोर कर रहा है बताया जा रहा है कि यह दो वायरस बैंकिंग से भी जुड़े एप में सेंध लगा चुका है। जिससे आपकी बैंकिंग सेवा प्रभावित हो सकती है साथ ही आपको बड़ा नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। अभी तक तो गोपनीय जानकारी के लिए लीक होने की खबरे थें लेकिन अब इन दो वायरस की पहचान हुई है वह यूजर्स के मोबाइल में मौजूद बैंकिंग से जुड़े भी सभी एप की जानकारी इकठ्ठा कर रहा है। जिसमें आपके लेन देन बैंकिंग के नोटिफिकेशन, पासवर्ड आदि सभी शामिल है।

अमेरिका से मिल रहा है भारत को खतरनाक हथियार, चीन-पाक परेशान

यह जानकारी ग्लोबल आईटी सिक्यॉरिटी फर्म क्विक हील ने मंगलवार जारे करते हुए कहा है कि एंड्राइड मोबाइल में (Android।Marcher।C)’ और Android।Asacub।T)’ नाम के दो ट्रोजन की पहचान हुई है जो वाट्सऐप, फेसबुक, स्काइप, इंस्टाग्राम और ट्विटर के साथ साथ आपके सभी बैंकिंग से जुड़े एप की भी जानकारी को और नोटिफिकेशन पर नजर रखता था।

UP: भीषण हादसे से दहला मैनपुरी, 17 की मौत, 36 घायल

फर्म ने चेतावनी देते हुए कहा कि एडिमिनिस्ट्रेटिव विशेषाधिकार के जरिए इनकमिंग मैसेज तक पहुंच हासिल करके, ये मैलवेयर हैकर्स को टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को भी क्रैक करने में सक्षम हो जाते हैं। यह टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन कोड ज्यादातर ऑनलाइन लेन देन में जरूरत पड़ते हैं। ऐसे में यह ट्रोजन (वायरस) इन्हें क्रैक कर आपके खाते की सारी राशि पार कर सकता है और आपको भनक भी नहीं लगेगी। ऐसे में आप की जरा सी लापरवाही आपको लम्बी चपत लगा सकती है।

यह भी देखें-

loading...