Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

वर्ल्ड कप पर भारी पड़ी वुमेन फुटबॉल कप, रद्द हुआ था मैच

नोएडा : वर्ल्ड कप 2019 के आगाज के साथ ही बारिश का सिलसिला भी लगातार जारी रहा। जिससे कई मैच तो इस बारिश के भेंट चढ़ गए तो कई महिला फुटबॉल कप के। जो इंग्लैंड में खेली जा रहीं है। अब आप यह सोचकर हैरान हो रहें होंगे कि बारिश तो ठीक है लेकिन वुमेन फुटबॉल कैप से वर्ल्ड कप मैच का क्या लेना-देना, तो आपको हम बता दें कि क्रिकेट में बारिश के दखल ने क्रिकेट फैंस के उत्साह को काफी कम कर दिया है, जिससे वे मैच देखने के अपेक्षा फुटबॉल ज्यादा देखना पसंद कर रहें है। अब हम आपको बता दें कि गुरूवार यानी 13 जून को इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच मैच होने थे, जो बारिश की वज़ह से ड्रा हो गया। जिस कारण इस मैच के अंक दोनों टीमों में बराबर – बराबर बांट दिये गये।

बता दें कि विश्व कप इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब टीम इंडिया का मैच बिना कोई गेंद फेंके रद्द हो गया, इससे पहले 1992 विश्व कप में भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया मैच बारिश के चलते रद्द्द करना पड़ा था लेकिन उस मैच टॉस  होने के बाद दो गेंद फेंकी गयी थी। मैच रद्द हो जाने से दोनों ही टीमों को एक एक अंक बांट दिया गया जिससे अब भारत के 5 अंको के साथ अंकतालिका में तीसरे स्थान पर है और न्यूज़ीलैंड सात अंको के साथ शीर्ष पर कायम है। भारत का अगला मुकाबला मेनचेस्टर में अपनी सबसे बड़ी प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से होना है ,वहां के मौसम की रिपोर्ट थोड़ी संतोष जनक है परन्तु हलकी बारिश के आसार मैनचेस्टर में भी है।

विश्व कप 2019 में अब तक चार मुकाबले बारिश की भेंट चढ़ गए जो कि एक रिकॉर्ड है, इससे पहले 1992 और 2003 विश्व कप में दो -दो मुकाबले बारिश से धुल गए थे। विश्व कप जैसे बड़े आयोजन में हो रही सभी अव्यवस्थाओ को देखते हुए ICC पर सवाल खड़े होना शुरू हो गए है। हालाँकि ICC का कहना है की उन्होंने पिछले सालों की मौसम रिपोर्ट को देखते हुए ही ये आयोजन शेड्यूल किया, अक्सर जून के महीने में इंग्लैंड में उतनी बारिश नहीं होती है जितना की इस विश्व कप के दौरान हुई। पिछले साल जून में केवल दो मिमी बारिश हुई, जबकि इस बार पिछले पांच दिनों में ही 100 मिमी बारिश दर्ज़ की गयी थी।

loading...