Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

2019 विश्व कप में टीम इंडिया... आरंभ ऐसा तो अंत कैसा?

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच साउथम्पटन में खेले गए, विश्व कप 2019 के 8वें मैच में टीम इंडिया ने 6 विकेट से जीत दर्ज कर विजयी आगाज किया है। इस अहम मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए अफ्रीकी टीम भारतीय गेंदबाजों के खिलाफ पस्त पड़ गई, जिसका नतीजा रहा कि पूरी टीम निर्धारित 50 ओवर में 9 विकेट खोकर 227 पर ढेर हो गई। वहीं 50-50 के लिए बेहद ही साधारण लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की ओर से रोहित शर्मा ने नाबद 122 रनों की शानदार शतकीय पारी खेली, जिसके बदलौत मैन इन ब्लू को विश्व कप में पहली सफलता 6 विकेट से मिली। इस मैच का सबसे खास पहलु रहा है कि रोहित आरंभ से अंत तक डंटे रहे। रास्ते में बहुत कांटे थे, लेकिन अटूट संकल्प के साथ उतरे शर्मा जीत का संदेश लेकर ही लौटे। जबकि सबसे खराब पहलु रहा कि टीम इंडिया का टॉप ऑडर खामोश रहा। जो खतरे की घंटी साबित हो सकती है। 

विस्तार से पढ़िए...आकड़े असली हैं...भाव लेखक के विचार हैं...

साउथम्पटन: आरंभ ऐसा तो अंत कैसा?....मैन इन ब्लू बॉस कोहली जब बुधवार को इंग्लैंड की धरती पर अपनी विराट सेना के साथ विश्व कप में सलामी देने उतरे तो उनके साथ मैदान में सिर्फ 10 सिपाही ही थे। लेकिन असल में विराट उस वक्त एक अरब से भी अधिक लोगों की उम्मीदों के साथ खड़े थे जब अफ्रीका कप्तान ने आसमान में सिक्का उछाला था।

सिक्के की बाजी मार विरोधी को शक्ति प्रदर्शन का निमंत्रण देकर विराट ने अपने इरादे साफ कर दिए थे। लेकिन असल में ये विराट की पहली चाल थी, जिसे चालबाज चहल ने विकेटों का चौका लगा और भी चौकश बना दिया। 27 साल के चहल ने मैदान में कोहराम मचा दिया। पहली बार विश्व कप में भारत का तिरंगा बुलंद करने का मौका मिला है, चूक का कोई चांस नहीं। लिहाजा चहल ने अपनी स्पिन चालबाजी का नायाब नमूना पेश किया और पहले ही मैच में 10 ओवर में 51 रन देकर 4 विकेट चटका लिए।

हालांकि टीम इंडिया का प्रदर्शन उतना भी खास नहीं रहा, जितना महीने भर से हंगामेदार बना था। विश्व कप की रणभेरी बजने से पहले ही कयासों का बाजार गर्म था। विशेषज्ञों के विश्वास के सहारे मीडिया डंका बजा रही थी। कईयों ने दावा किया कि शानदार फॉर्म में चल रही टीम इंडिया विरोधियों के पसीने छुड़ा देगी।

लेकिन ICC की नंबर तीन के खिलाफ उतरी जीताउ जोश लवरेज नंबर 2 की टीम इंडिया जब 228 रन चेस करते हुए तो दिग्गजों की दहाड़ खामोश हो गए, IED से भी जबरदस्त विस्फोट करने वाले बल्लेबाजों की हवाइयां उड़ गई। आलाम ऐसा कि सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के अलावा टॉप ऑडर में शिखर, विराट, राहुल सब खामोश रह गए। किसी का बल्ला 12 बोला तो किसी ने 26... सब 50 के पहले ही ढेर हो गए।

विश्व कप के पहले मैच में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन को 12 गेंद में 8 रन बनाकर उल्टे पांव लौटना पड़ा। टीम इंडिया के करीशमाई कप्तान और विश्व के नंबर 1 विराट की शुरुआत से ही टूटती रफ्तार 34 गेंद में 18 रन पर दम तोड़ गई। तो लोकेश राहुल ने 42 गेंद में 26 रन बनाकर पल्ला झाड़ लिया। हालांकि संकट की घड़ी में मोचन बने टॉप ऑडर के एक मात्र बल्लेबाज रोहित शर्मा ने पराक्रम की पराकाष्ठा पेश की, जिसकी बदौलत टीम इंडिय विश्व कप में विजयी आगज कर सकी है।

विश्व कप के पहले मैच में शर्मा ने 144 गेंद में 122 रन बनाए। रोहित शर्मा के लिए यह 23वां वनडे शतक रहा, जिसकी खुशी देखने लायक थी। शर्मा के चेहरे पर जीत की चाहत साफ दिख रही थी, और ये खुशी भी उसी जीत की है। अपने अंदाज ए बयां के लिए मशहूर शर्मा ने अफ्रीकी गेंदबाजों की कमर तोड़ दी। 122 रनों की पारी में शर्मा ने 13 चौके और 2 छक्के लगाए। और महाकुंभ 2019 में शतकों के समागम में शामिल होने वाले पहले भारतीय बने।

हालांकि इस जीत में पूर्व कप्तान बाहुबली महेंद्र सिंह धोनी का योगदान भी तारीफे काबील है। धोनी ने 46 गेंद में 36 रनों पारी ऐसे वक्त में खेली जब टीम इंडिया को इसकी शक्त जरूरत थी। वहीं स्ट्राइक रेट के लिहाज से इस जीत में सबसे बड़ा योगदान युवा ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का रहा, जिन्होंने 7 गेंद में 15 रन लगाए, जो 200 के स्ट्राइक रेट से भी अधिक है।

इस तरह टीम इंडिया विश्व कप में अपनी पहली जीत दर्ज कर सकी। बहरहाल अभी तो पार्टी शुरू हुई है...आगे और भी दिलचस्प मुकाबले होने हैं। जिनपर क्रिकेट प्रेमियों की निगाहें टिकी हैं। खास कर हिंदुस्तानियों की जहां, क्रिकेट प्रेमियों की अपनी एक अलग कौम है। और कप्ततान ने पहले ही साफ कर दिया है कि परिस्थिति चाहे जैसी भी हो हमारा इरादा बस जीत है। हमारा निशाना मछली नहीं मछली की आंख है।

वहीं विश्व कप में साउथ अफ्रीका की बात कर तो दुनिया की नंबर तीन टीम का तमगा रखने वाली अफ्रीकी टीम के लिए तीन मैचों में तीसरी करारी हार रही। खास तौर पर तीसरी हार अफ्रीकी टीम के लिए खतरे की घंटी साबित हो सकती है। अफ्रीकी टीम एक मात्र ऐसी टीम है जिसने विश्व कप 2019 के तहत खेले गए तीन के तीनों मैच गंवा चुकी है।  

चलते-चलते यह भी बता दें कि विश्व में टीम इंडिया का दूसरा मैच रविवार 9 जून दोपहर 3 बजे से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला जाएगा।

loading...