Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

रोहित के शतक के बावजूद भी फीकी पड़ी टीम इंडिया, जानिए क्यों

विश्व कप में खेले गए आठवें मुकाबले में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को 6 विकेट से मात दे कर साउथैम्पटन में विजयी शंख बजाया। हिटमैन रोहित ने इस मैच में शानदार नाबाद 122  रन की पारी खेली। इस मैच में कई उतार चढ़ाव देखने को मिले, लेकिन इन सभी उतार चढ़ाव के बावजूद भी कुछ ऐसे दृश्य देखने को मिलें, जिस पर नज़र डालना बहुत जरूरी है । क्या है वो दृश्य

साउथ अफ्रीका ने टॉस जीत कर बल्लेबाज़ी का निर्णय लिया जो उनके पहले दांव पर पर भारी पड़ गया। टीम इंडिया को टॉस हारने के बावजूद भी जीत मिला। पिच के व्यवहार को देखते हुए ये कयास लगाया जा रहा था कि जो टॉस जीतकर पहले गेंदबाज़ी करेगा उसे जीत मिलेगी परन्तु यहां पर उसके विपरीत परिणाम देखने को मिला। अफ्रीका ने भारत को गेंदबाज़ी के लिए आमंत्रित किया, क्योंकि साउथ अफ्रीका पहले विश्व कप के दोनों मैचों स्कोर का पीछा करते हुए हारा था। शायद कप्तान डुप्लेसी ने ये देखते हुए पहले बल्लेबाज़ी का निर्णय लिया ,लेकिन उनको नहीं पता था की ये चाल उन्ही पर भरी पड़ जाएगी।

बुमराह का कहर

बुमराह की सधी हुई गेंदबाज़ी के आगे साउथ अफ्रीका के ओपनिंग जोड़ी ने अपने घुटने टेक दिए। आसमान में बादल और पिच में नमी का बुमराह ने भरपूर फायदा उठाया और दोनों ही ओपनर्स को 10 ओवर के अंदर ही चलता कर दिया। कप्तान कोहली को बुमराह से जैसी उम्मीद थी उन्होंने ठीक वैसा ही प्रदर्शन कर अफ्रीकी ओपनर्स के हौसले पस्त कर दिए।

फिरकी का जादू

बुमराह ने तो अपना काम कर दिया था अब बारी थी कुलचा (कुलदीप और चहल ) की। कप्तान ने भरोसा कर बॉल चहल को थमा दी और फिर क्या था, पेसर्स को मददगार पिच पर भी चहल का जादू  चल गया। उन्होंने वेन डेर डुसेन को बोल्ड किया जिन्होंने मात्र 22 रन बनाए थे। इसके बाद कप्तान फाफ डु प्लेसिस को भी बोल्ड कर अफ्रीकी टीम की कमर तोड़ दी। वही दूसरी छोड़ से कुलदीप ने भी जेपी डुमिनी को आउट कर अफ्रीकी ताबूत में एक और कील ठोक दी। कुलदीप और चहल ने कुल 5 विकेट लेकर अफ्रीका का मिडिल आर्डर को ध्वस्त कर दिया और अफ्रीका के उन सभी आशों पर पानी फेर दिय, जो उन्होंने सोच रखा था।

अंतिम ओवर में विकेट्स का ना मिलना

इंग्लैंड दौरे में अंतिम ओवरों में विकेट ना मिलना एक चिंता का विषय हो सकता है। मैच में 40 से 50 ओवर के बीच भारतीय टीम सिर्फ 3 विकेट ले सके, जिसमें से 2 विकेट भुवनेश्वर कुमार ने लिए। जिस तरह अफ्रीकी टीम के विकेट लगातार अंतराल पर गिरते जा रहे थे उससे यह पूरी टाम 200 के अंदर समेट जाना चाहिए, जो हो न सका। क्रिस मोरिस और रबाडा ने 62  रन की पार्टनरशिप कर टीम का स्कोर 227 पहुंचा दिया।

साधारण लक्ष्य के सामने डगमगाती शुरूआत

साउथैम्पटन की पिच पर जिस प्रकार रनों के अंबार खड़े होते है, उस मायने में ये लक्ष्य टीम इंडिया के सामने कुछ भी नहीं था। परन्तु शिखर धवन का निरंतर फेल होना भारत के लिए चिंता का विषय है। लक्ष्य छोटा था जिसे टीम इंडिया ने 4 विकेट खो कर हासिल किया। इस छोटे से लक्ष्य के सामने कप्तान कोहली भी संयम से खेलते नज़र आ रहे थे। बिलकुल वैसे ही जैसे नेट प्रैक्टिस में नज़र आते है। इस दृश्य को देखने से ऐसा जान पड़ता था जैसे वे  इस मैच के साथ-साथ अगले मैच की भी तैयारी कर रहे हो। लेकिन उनका यह संयम भी ज्यादा देर नहीं चला और एंडिले फेहलुकवायो की गेंद पर डिकॉक को कैच दे बैठे। केएल राहुल ने यहां पर निराश किया। लम्बे समय से चले आ रहे नंबर 4 के स्लॉट को भरने के लिए उन पर विश्वास जताया गया लेकिन यहां उनका बल्ला भी खामोश रहा । अंत में हमेशा की तरह पूर्व कप्तान एवं वर्तमान विकेटकीपर और बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी रोहित का साथ दे कर टीम इंडिया को विजयश्री की ओर ले गए।

रोहित का रिकॉर्ड शतक, टीम की जीत

सर्वाधिक 3 बार दोहरा शतक बनाने वाले हिटमैन के नाम से महशूर रोहित शर्मा ने यहाँ पर 122 रनो की जुझारू पारी खेल कर टीम को जीत दिलाई। रोहित ने 23वां शतक लगते ही पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के 22 शतकों के रिकार्ड्स को तोड़ दिया। अब भारतीय टीम में पूर्व दिग्गज सचिन तेंदुलकर (49),विराट कोहली (41) के बाद रोहित(23) तीसरे पायदान पर आ गए है। 1 रन पर जीवनदान मिलने के बाद रोहित ने उस एक गलती से सीख ले कर उसे शतक में तब्दील कर दिया और टीम को विश्व कप अभियान में पहली जीत दिलाई।

टीम इंडिया के लिए चिंता का विषय

शिखर धवन का लगातार विफल होना टीम इंडिया के लिए चिंता का विषय है अगला मैच मौजूदा विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया से है और ऐसे में ओपनिंग जोड़ी के बीच पार्टनरशिप ना होना टीम इंडिया के लिए परेशानी का सबब बन सकती है। ऑस्ट्रेलिया फॉर्म में है और भारत को ज्यादा मजबूत तैयारी के साथ उनके सामने उतरना होगा।

आपको बता दे की भारत का अगला मैच 9 जून को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ है, ये मैच लंदन के ओवल में भारतीय समयानुसार 3 बजे खेला जायेगा।

loading...