Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

तो वहीं हुआ… जिसका डर सता रहा था!

मैनचेस्टर: तो वहीं हुआ, जिसका डर सता रहा था। इंग्लैंड के मैनचेस्टर में हो रहे आईसीसी वर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया है। बुमराह और भुवनेश्वर ने कसी हुई गेंदबाजी के सामने विरोधी टीम रन बनाने को तरस गई।

बुमराह ने अपने तीसरे ओवर में न्यूजीलैंड को पहला झटका दिया और गप्टिल को 1 रन पर लौटा दिया। इसके बाद हेनरी और विलियमसन भी पवेलियन लौट गए। वहीं जडेजा ने भी शानदार गेंदबाज़ी करते हुए विल्लियम्सन और निकोलस के बीच बन रही एक महत्वपूर्ण साझेदारी को तोड़ दिया ,उन्होंने निकोलस को 28 रन के निजी स्कोर पर आउट किया।

 जडेजा ने अपने बोलिंग स्पेल में 10 ओवर में 34 रन दे कर एक विकेट हांसिल किया ,भारत की तरफ से सभी गेंदबाज़ो का मिला जुला प्रदर्शन रहा। लेकिन इससे पहले कि पूरी पारी समाप्त होती, बारिश की दखलनदाजी शुरू हो गई।  फिलहाल बारिश के कारण मैच रुका हुआ है, बारिश की रफ्तार से ऐसा लगता है, जैसे अब मैच शुरू नहीं हो सकता।

खबरे लिखे जाने तक बारिश के कारण मैच रुका हुआ है, अब तक न्यूज़ीलैंड का स्कोर  46.1 ओवर में  211/5 था। यहां से अगर बारिश रुकती है और न्यूजीलैंड को बल्लेबाजी का मौका नहीं मिलता है तो भारत को डीएलएस के मुताबिक 46 ओवर में 237 रनों का टारगेट मिलेगा। बारिश कुछ और देर से रुकती है तो भारतीय पारी के ओवर कम कर दिए जाएंगे और डीएलएस के मुताबिक भारत को 20 ओवर में 148 रनों का टारगेट मिलेगा। लेकिन इस सेमीफाइनल मुकाबले के लिए एक रिजर्व डे भी रखा गया है। इस लिहाज से अगर आज मैच नहीं हो सका तो कल बुधवार को मैच रिज्यूम होगा। यानी मैच को फिर वहीं से शुरू किया जाए जहां से खत्म हुआ था।

 हालांकि, ये अंतिम उपाय होगा। फिलहाल रॉस टेलर 67 रन और टॉम लाथम तीन रन बनाकर खेल रहे हैं। न्यूजीलैंड ने इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था। बता दें कि न्यूज़ीलैंड ने बारिश के संभावित खतरे को भांपते हुए पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था, लेकिन टॉस का बॉस बनने के बाद भी न्यूजीलैंड की टीम इसका पूरा फायदा उठाने में नाकाम रही।

loading...