Breaking News
  • आज शाम 6 बजे तक खत्म हो सकता है कर्नाटक का नाटक, कुमारस्वामी करेंगे फ्लोर टेस्ट
  • बिहार के दरभंगा में अभी भी बाढ़ से राहत नहीं, लोगों ने सड़क पर ठिकाना
  • आज होगा ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री का चयन
  • बीजेपी संसदीय दल की बैठक के बाद, पीएम मोदी कर सकते हैं सांसदों को संबोधित

स्वर्णिम छक्का जमाकर मेरीकॉम ने रचा इतिहास, बनी पहली भारतीय महिला

नई दिल्ली : एक बार फिर मेरीकॉम ने खुद को साबित कर दिया की वो आज भी किसी से कम नहीं हैं। 35 साल के उम्र में भी इतनी चुस्त, दुरूस्त और फुर्तीली। अपने फुर्ती और साहस के बल पर ही मेरीकॉम ने वो कर दिखाया जो आज तक किसी भारतीय महिला नहीं किया। अपने इस कारनामे के साथ ही मेरी 6 बार गोल्ड  मेडल जीतने का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। आपको बता दें कि मेरीकॉम कुल सात विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में पदक जीतने वाली पहली महिला बॉक्सर बन गई हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पीएम मोदी पर बड़ा हमला, कहा मोदी जी को बोलने की तमीज नहीं

मेरीकॉम ने चैंपियनशिप के 10वें संस्करण में यह स्वर्णिम सफलता हासिल की। दिल्ली के केडी जाधव हॉल में 48 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में उन्होंने यूक्रेन की हन्ना ओखोटा को 5-0 से मात देकर विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा छह स्वर्ण पदकों पर कब्जा जमाने की अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की। इसके साथ ही लंदन ओलंपिक-2012 की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट 'मैग्नीफिसेंट मेरी ' ने 5 गोल्ड मेडल जीतने वाली आयरलैंड की दिग्गज केटी टेलर (2006-16) को पीछे छोड़ दिया है। केटी अब प्रोफोशनल सर्किट में दांव आजमा रही हैं।

अपने बिकनी लुक से अमेरिका में कोहराम मचा रहीं हैं यह मॉडल, देखिए टॉप 5 तस्वीरें

महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में मेरीकॉम का यह 7वां (6 गोल्ड+ एक सिल्वर) पदक है। सर्वाधिक मेडल जीतने का रिकॉर्ड भी अब मेरीकॉम के नाम है। केटी टेलर (5 गोल्ड+ 1 ब्रॉन्ज) अब पिछड़ चुकी हैं। बता दें कि मेरीकॉम ने स्वर्णिम छक्का जमाकर पुरुषों की विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के इतिहास में सर्वाधिक गोल्ड मेडल जीतने वाले तीन बार के ओलंपिक चैंपियन क्यूबाई (1986-99) दिग्गज फेलिक्स सेवॉन की भी बराबरी कर ली है। फेलिक्स के नाम भी 6 गोल्ड मेडल हैं।

#MeToo में फंसने के बाद, अब अपने से 18 साल छोटी इस सुपरमॉडल से शादी करने जा रहें सुहेल

Reported by

Amit kumar ranjan

loading...