Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

ऐतिहासिक किताब में भारत का एक और पन्ना!

मैनचेस्टर: रविवार सुबह से ही माहौल गरमाया हुआ था, और गरमाये भी क्यों न जब भारत-पाकिस्तान के बीच हाईवोल्टेज मुकाबले का इंतजार न सिर्फ भारत और पाकिस्तान बल्कि पूरी दुनिया की निगाहें मैनचेस्टर के ऐतिहासिक ट्रेड ओल्ड ट्रेफर्ड ग्राउंड पर पर टिकी हो। हां यह सच है कि क्रिकेट के महाकुंभ का आगाज 30 मई 2019 को ही हो चुका है, लेकिन सवा सौ करोड़ भारतीय फैंस के लिए विश्व कप का आगाज सही मायने में 16 जून को हुआ, जब टीम इंडिया ने एक और बार पाकिस्तान को घुंटने टेकने पर मजबूर कर दिया।

हालांकि मुकाबले से पहले मीडिया और सोशल मीडिया पर तरह-तरह की बाते चल रही थी। भारत और पाकिस्तान के धुरंधर अपने-अपने दावों को ‘मुंहगोलो’ फेंक रहे थे। पाकिस्तान को पूरी उम्मीद थी कि विश्वव कप में भारत को हराने का सपना शायद अबकी बार साहार हो जाए, लेकिन रात होते होते (भारतीय समयानुसार) यह साफ हो गया कि पाकिस्तान का सपना, सपना ही रह गया और भारत ने पाकिस्तान को हराने वाले ऐतिहासिक किताब में जीत का एक और पन्ना जोड़ दिया।

विश्व कप 2019 में इतिहास बदलने के इरादे से जब पाकिस्तानी टीम भारत के खिलाफ मैदान में उतरी तो सब कुछ उसके ही हिसाब से चल रहा था। टॉस का सिक्का पाकिस्तान के हाथ लगा, लेकिन शायद पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद ने टॉस जीतकर ही सबसे बड़ी गलती कर दी। भारत को हराने के नशे में चूर पाकिस्तानी कप्तान ने होश गंवा दिया और टॉस जीत कर भारत के हाथों में बल्ला थमा दिया। शायद इसी मौके की ताक में बैठे रोहित शर्मा ने पाकिस्तान की धारदार गेंदबाजी को रूला दिया। क्या आमिर और क्या हसन, शर्मा के सामने सब शर्मा गए। बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों के लिए शानदार ट्रेफर्ड ग्राउंड पर आसमानी बारिश के बीच शर्मा ने रनों की ऐसी बरसात कराई कि पाकिस्तान पानी-पानी हो गया।

सिर्फ 140 रन ठोकने वाले शर्मा ही नहीं बल्कि 57 रान वाले राहुल और 77 वाले विराट ने पाकिस्तानी गेंदबाजों की हवा निकाल दी और बारिश के कारण बाधित हुए मैच में 5 विकेट खोकर 336 रनों का पहाड़नुमा स्कोर खड़ा कर दिया। अब बारी थी भारतीय गेंदबाजों की। तो यहां शुरुआती दौरा में ही भारत को भुवनेश्वर कुमार के रूप में एक बड़ा झटका लगा। खिंचाव के कारण शुरुआती दौर में ही मैदान से आउट हुए कुमार की कमी जरूर खल रही थी, लेकिन विश्व कप में डेब्यू कर रहे विजय शंकर ने गजब का कमाल दिखाया, कुमार का ओवर पूरा करने आए विजय ने आते ही पाकिस्तान को जोर का झटका दिया।

हालांकि इसके बाद फकर जमा (62) और बाबर आजम (48) क्या खुब पारी संभाली, लेकिन जब कुलदीप का साथ हो तो दीपक बूझने की बात कैसी, एक समय तो ऐसा लगा रहा था, फकर और बाबर की जोड़ी भारत पर भारी न पड़ जाए, लेकिन जल्द की कुलदीप यादव ने कलाकारी का नायाब नमूना पेश किया और दोनों बल्लेबाजों को एक के बाद एक ढेर कर दिया। रही सही कसर हार्दिक पांड्या और विजय शंकर ने पूरी कर दी। फिर क्या भारत से मिले भारी-भरकम स्कोर के नीचे पाकिस्तान की पूरी टीम दब कर रह गई। 337 रनों का लक्ष्य भेदने उती पाकिस्तानी टीम 40 ओवर के खेल के बाद 6 विकेट खोकर महज 212 ही बना सकी, और इस तरह से बारिश के कार कई बार बाधित हुए मैच को भारत ने DLS के तहत 89 रनों से जीत कर अंग्रेजों की धरती पर पाकिस्तान के खिलाफ तिरंगा फहरा दिया।

loading...