Breaking News
  • जम्मू-कश्मीर: कुलगाम में तीसरे आतंकी ने हथियारों के साथ आत्म समर्पण किया
  • क्रिकेट: 30 सालों में पहली बार छठे पायदान पर पहुंची ऑस्ट्रेलियाई टीम
  • शुक्रवार तक दिल्ली पहुंच सकता है मॉनसून, मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित

हारने के बाद भी बोल्ट ने किया दावा, ‘आज भी दुनिया बेहतरीन खिलाड़ी हूं’...

NEW DELHI:- लंदन विश्व चैम्पियनशिप में अपने करियर की अंतिम 100 मीटर रेस में मिली हार के बावजूद जमैका के सबसे तेज धावक उसेन बोल्ट का कहना है कि वह अब भी इतिहास के सर्वश्रेष्ठ एथलीट हैं। शनिवार को आयोजित हुई इस रेस में अमेरिका के 35 वर्षीय धावक जस्टिन गाटलिन ने बोल्ट को पछाड़ते हुए गोल्ड मेडल पर कब्जा किया।

इसके अलावा, गाटलिन के हमवतन 21 वर्षीय क्रिस्टियन कोलेमन ने सिलवर मेडल जीता और बोल्ट को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा।

'द गार्जियन' की रिपोर्ट के अनुसार, रेस के बाद एक बयान में बोल्ट ने कहा, "मैंने विश्व को दिखाया है कि मैं सर्वकालिक महान एथलीटों में से एक हूं। मुझे नहीं लगता कि इस एक हार से कुछ भी बदलेगा। मैंने अपने प्रयासों से एथलेटिक्स जैसे खेल को ऊपर उठाया है और इसे अन्य खेलों के समक्ष बेहतर रूप से प्रदर्शित किया है। मैं निराश नहीं हो सकता।"

बोल्ट ने कहा, "मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। स्टेडियम में आए दर्शकों ने मेरा समर्थन किया और मुझे प्रोत्साहित किया।"

विश्व चैम्पियन बने गाटलिन की प्रशंसा करते हुए बोल्ट ने कहा, "मैंने उन्हें जीत की बधाई दी। इस रेस में वह बेहतर एथलीट रहे।"

loading...