Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

कैप्टन कूल के फैंस को मुफ्त में खाना…

नोएडा : महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट दुनिया का एक बहुत बड़ा नाम हैं, यूं तो दुनिया भर में माही के प्रशंसको की कमी नहीं है। हर किसी का अपने चहेते क्रिकेटर के प्रति प्रेम और आभार प्रकट करने का अलग तरीका होता है, कोई अपने शरीर में टैटू बनवा लेता है तो कोई धोनी का हेयर स्टाइल कॉपी करता है, कोई उनके नंबर की जर्सी पहनता है तो कोई उनकी तस्वीर बनाता है, इन्हीं में से महेंद्र सिंह धोनी का एक ऐसा प्रशंसक भी है जो उनके फैंस को मुफ्त खाना खिलता है।

हम बात कर रहे है धोनी के सबसे बड़े प्रशंसक शम्भू की, जिनके रेस्टोरेंट में धोनी के फैंस को मुफ्त खाना खिलाया जाता है। शम्भू का कहना है की वो माही को माछी - भात खिलाना चाहते है, धोनी  को भी माछी भात बहुत पसंद है। धोनी के बहुत बड़े प्रशंसक शंभू पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले में एक रेस्टोरेंट चलाते हैं जिसका नाम 'एमएस धोनी रेस्टोरेंट' है। शम्भू पिछले डेढ साल से ये रेस्टोरेंट चला रहे है उनके रेस्टोरेंट में हर तरफ महेंद्र सिंह धोनी के पोस्टर्स लगे हुए है, कोई भी कोना देख के ऐसा नहीं लगता की वहां पर कोई भी एक पोस्टर लगाया जा सकें। पूरा रेस्टोरेंट धोनी के  फोटोज से भरा हुआ है।                                       

शम्भू ने कहा अब हमारे इस रस्टॉरेंट को दो साल होने जा रहे है,  डेढ साल से वो धोनी के फैंस को मुफ्त खाना देते आये है। शंभू ने कहा,' यहां हर कोई इस जगह को जानता है, लोग यहां खाने के लिए आते हैं। आप किसी से भी धोनी के होटल के बारे में पूछ लीजिए, आप यहां आ ही जाएंगे।' शंभू से जब धोनी बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'उनकी तरह कोई नहीं है। मैं जब बच्चा था, तभी से उनको पसंद करता हूं। वह जिस तरह से हैं, जिस तरह से वे क्रिकेट खेलते हैं, उसी से पता चलता है कि लेजेंड कैसे बनते हैं। वह मेरे लिए प्रेरणा है।'

शम्भू के यहाँ मुख्य रूप से बंगाली खाना ही मिलता है, शम्भू से धोनी को मिलने के सवाल पर उन्होने कहा ' मैं एक दिन उनसे मिलना चाहता हूं लेकिन मेरे पास स्टेडियम में जाकर मैच देखने के पैसे नहीं हैं। शंभू ने कहा, 'मैं जानता हूं कि मेरा सपना कभी पूरा नहीं होगा, लेकिन अगर मैं उनसे किसी दिन मिल सका तो मैं उनसे मेरे रेस्टोरेंट में आने को कहूंगा। मुझे पता है कि उन्हें भात-मच्छी पसंद है।' शम्भू ने पुरानी बात याद करते हुए कहा  2 अप्रैल 2011 का वो दिन आज भी मुझे याद है जब मेरी चाय की छोटी सी दुकान थी और मैं फाइनल देख रहा  था। उस दिन धोनी का परफॉरमेंस और टीम को विश्व कप जीतते हुए देखना मेरे लिए स्वप्न से कम  नहीं था ,मेरी आँखों में खुशी के आंसू थे और हो भी क्यों न आखिर शम्भू के हीरो ने 28 साल बाद भारत को विश्वकप कप जिताया था।

loading...