Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

1998 में पाकिस्तान के कारनामे को ऑस्ट्रेलिया ने दोहराया, जानकर आप भी...

संजय उपाध्याय

नई दिल्ली : मैच कारनामों का मंच होता है, चाहे किसी की जीत हो या हार। लेकिन यह कारनामा होता रहता है। और एक नये रिकॉर्ड के साथ इसे समय दर समय याद किया जाता है। इतिहास दोहराया जाते रहते है। एक बार फिर यहीं इतिहास नॉटिंघम के मैदान में दोहराया गया। वो भी वर्ल्ड कप 2019 के मैच में। जब आस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज 6 जून को आमने सामने थे। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने वेस्टइंडीज को 15 रनों से पटखनी दी।

ट्रेंट ब्रिज नॉटिघम खेला गया ये मुकाबला बेहद ही रोमांचक रहा और एक कांटे की टक्कर देखने को मिली। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने बाज़ी मारी और वेस्टइंडीज को वर्ल्ड कप में पहली हार का स्वाद चखना पड़ा। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए स्टीव स्मिथ और कूल्टर नाइल के शानदार अर्धशतकों की मदद से 288 रनो का लक्ष्य रखा, जिसके जवाब में वेस्टइंडीज की टीम 273 रन ही बना सकी और से 15 रनो से हार का सामना करना पड़ा।

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से मिचेल स्टार्क ने नायाब गेंदबाज़ी का नमूना पेश करते हुए 46 रन देकर पांच विकेट चटकाये। वहीं पैट कम्मिंस दो विकेट और एडम ज़म्पा एक विकेट ने भी स्टार्क का बखूबी साथ निभाया।

एक साल का प्रतिबन्ध झेल कर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर रहे स्टीव स्मिथ ने अपनी फॉर्म जारी रखते हुए 73 रनो की बहुमूल्य पारी खेली। एलेक्स केरी ने भी ऑस्ट्रेलिया की जीत में 45 रनो की भागीदारी दी, वहीं कूल्टर नाइल ने मात्र 60 गेंदों में 92 रनो की शानदार पारी खेल कर टीम की जीत में महत्वपूर्ण योगदान दिया। कूल्टर नाइल को उनकी इस शानदार पारी के लिए मैच का सर्वश्रेष्ट खिलाड़ी घोषित किया गया।

वेस्टइंडीज की तरफ से शाई होप ने संयम से खेलते हुए अपनी टीम के लिए कुछ होप जरूर जगाई लेकिन पैट कम्मिंस की एक गेंद में उस्मान ख्वाजा के हाथो लपक लिए गए। कप्तान होल्डर भी 57 बॉल्स में 51 रनो की ही पारी खेल सके। जो जीत की दहलीज पर पहुंचने के लिए नाकाफी था। आईपीएल के हीरो रहे आंद्रे रसेल भी कुछ खास नहीं कर पाए और मात्र 15 रन बना कर स्टार्क का शिकार बनें। 

कल का दिन पूरी तरह से मिचेल स्टार्क के नाम रहा, उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में छठी बार एक ही पारी में पांच विकेट लिए और ये कारनामा करने के साथ ही स्टार्क ने विश्व क्रिकेट में सबसे तेज़ 150 विकेट लेने का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया। इससे पहले ये रिकॉर्ड पाकिस्तान के दिग्गज स्पिनर सकलेन मुश्ताक़ के नाम था। उन्होंने ये कारनामा 1998 में भारत के खिलाफ किया था। मिचेल से पहले सबसे तेज़ 150  विकेट लेने वालो की सूची में न्यूज़ीलैंड के ट्रेंट बोल्ट(81 ), स्टार्क के ही हमवतन ब्रेट ली(82 ) और श्रीलंका के अजंता मेंडिस(84 ) का नाम  आता था।

loading...