Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

मयंक के टीम में शामिल करने से नाराज हुए अंबाती, लिया सन्यास लेकिन एक छोड़कर

नोएडा : वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का चयन हो चुका था, सभी खिलाड़ी मैच खेलने के लिए विदेश रवाना हो चुके थे। अंबाती रायडू को रिजर्व प्लेयर के तौर पर टीम में शामिल किया गया। क्योंकि वे हरफनमौला खिलाड़ी के साथ-साथ ऑलराउंडर भी थे। जिन्होंने विकेटकीपिंग, बैटिंग और बॉलिंग तीनों में हाथ अजमा रखा था, इसलिए उन्हें टीम में रखा गया कि अगर कोई खिलाड़ी चोटिल हो जाएं तो वे उनकी जगह ले सके। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

उन्हें रिजर्व के रिजर्व ही रखा गया, और उनकी जगह मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल में किया गया। जो एस. विजयशंकर के चोटिल होने पर टीम में शामिल हुए। इससे अंबाती बेहद आहत हुए, और इन्होंने सन्यास की घोषणा कर दी। जब इस बाबत खोजबीन की गई कि आखिर अंतिम समय में चयनकर्ताओं ने अपना निर्णय क्यों बदला। जो जानकारी मिली तो वह बहुत ही चौकाने वाला था। आईएनएस की मानें तो रायडू की बजाय मयंक को टीम में शामिल करने का निर्णय पांच सदस्यीय चयन समिति ने नहीं टीम प्रबंधन ने लिया।

वहीं एक सूत्र ने कहा कि, 'टीम प्रबंधन ने साफ कर दिया था कि वे चोटिल शंकर की जगह मयंक को टीम में शामिल करना चाहते हैं। चयनकर्ताओं का इस पर चर्चा करने का कोई सवाल ही नहीं था।'

मयंक के टीम में शामिल होने की वज़ह लोकेश राहुल को मिडिल क्रम में भेजकर, मिडिल क्रम मजबूत करने से हो सकता है, जिससे टीम का संतुलन बेहतर होगा। हालांकि, सूत्र ने कहा कि इंडिया-ए के लिए मयंक के दमदार प्रदर्शन ने उन्हें वर्ल्ड कप का टिकट दिलाया। इंडिया 'ए' टीम के खिलाफ हुई वनडे सीरीज में मयंक का रिकॉर्ड देखें तो उन्होंने चार पारियों में दो शतक के साथ 287 रन बनाए। लीस्टरशायर के खिलाफ वॉर्म-अप मैच में अग्रवाल के 151 रनों के पारी आप नहीं भूल सकते। वह सीरीज भी जून और जुलाई में खेली गई थी।

मयंक को लेकर लोगों में आम धारणा यही है कि वह बहुमुखी हैं और किसी भी परिस्थिति के अनुकूल हो सकते हैं।' बता दें कि भारतीय टीम का आखिरी मैच 6 जुलाई 2019 को यानी शनिवार को श्रीलंका से होगा।

सन्यास लेने के दौरान अंबाती रायडू ने कहा कि वे विदेश की धरती पर खेले जानेवाले टी-20 को छोड़कर अन्य सभी प्रारूपों से सन्यास ले रहे है, यहां तक की इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) से भी।

loading...