Breaking News
  • सौदे की सीबीआई जांच की मांग वाली याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में खारिज
  • राफेल की गुणवत्ता पर सवाल नहीं, कीमत जानना जरूरी नहीं : सीजेआई
  • राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
  • पर्थ टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया ने जीता टॉस, पहले बल्लेबाजी का फैसला

कर्नाटक: येदियुरप्पा के दावे ने हिला दी कांग्रेस-जेडीएस की चूलें, जल्द बनेगी बीजेपी की सरकार

बेंगलुरु: कर्नाटक में एकबार फिर से नाटक शुरू हो गया है। सत्ता के लालची लोगों ने जोड़ तोड़ कर सरकार बनायी तो सरकार बनने के करीब एक माह बाद ही दुसरे सत्ता के लालची नेताओं ने अब बनी बनाई सरकार से विधायकों को तोड़ने की कोशिश शुरू कर दी है।

बतादें कि खबर आ रही है कर्नाटक में सत्ताधारी दल जनता दल-सेक्युलर और कांग्रेस के बीच गठबंधन पर एकबार फिर से बड़ा खतरा बना हुआ है। मीडिया में जारी खबरों की माने तो पूर्व सीएम और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा के दावा किया है कि दल जनता दल-सेक्युलर और कांग्रेस के कई विधायक उनके संपर्क में है जोकि सरकार और अपनी पार्टियों से असहज है। ऐसे में वह बीजेपी के साथ आ सकते हैं। मीडिया में जारी खबरों में बीएस येदियुरप्पा के हवाले से दावा किया जा रहा है कि दोनों पार्टियों के कई विधायक अपनी-अपनी पार्टी में असहज महसूस कर ऐसे में वह कांग्रेस और जेडीएस का कभी भी साथ छोड़ सकते हैं।

अभी अभी: बीजेपी में बड़ा बदलाव, मदन लाल सैनी को मिली अध्यक्ष पद की कमान

वहीं इन असंतुष्ट विधायकों को बीजेपी का साथ देने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही कर्नाटक के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने दल जनता दल-सेक्युलर और कांग्रेस के गठबंधन को अपवित्र भी करार दिया। शुक्रवार को बीएस येदियुरप्पा ने बीजेपी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में अपने नेताओं से कांग्रेस व जेडीएस के ऐसे असंतुष्ट विधायकों से संपर्क साधने और उन्हें बीजेपी में लाकर पार्टी को मजबूत बनाने की बात कही है।

सरकार की सफाई: स्विस बैंक में काला नहीं बल्कि सफेद धन हुआ है जमा?

मालूम हो कि कुछ ही समय पूर्व कर्नाटक के वरिष्ठ बीजेपी नेताओं ने बीजेपी के केंद्रीय नेत्रत्व से बात की थी कि कर्नाटक में दल जनता दल-सेक्युलर और कांग्रेस के असंतुष्ट विधायक बीजेपी के साथ लाने की कोशसिह की जा रही है। हालाँकि केन्द्रीय नेत्रत्व ने इस बात की सहमती दी है या नहीं दी इसकी सटीक जानकारी नहीं है। लेकिन कयास लगाया जा सकता है अब कर्नाटक में खुले तौर पर दल जनता दल-सेक्युलर और कांग्रेस के नाराज नेताओं से संपर्क साधने और उन्हें बीजेपी के साथ लाने की बात कही गयी है। जिसका साफ़ मतलब निकलता है कि केन्द्रीय नेत्रत्व ने पार्टी को कर्नाटक में तोड़ फोड़ की परमिशन दे दी है।

यह भी देखें-

loading...