Breaking News
  • गुजरात: 44 बिल्डर्स और फाइनेंसरों के कई ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वार्षिक समीक्षा बैठक में वित्त मंत्री, कर्ज देने की प्रक्रिया को ईमानदार बनाएं बैंक
  • उत्तर भारत में मौसम का कहर जारी, हिमाचल में 3 की मौत, बादल फटने से मची तबाही
  • भारत-पाक विदेश मंत्रियों की वार्ता रद्द होने के बाद सार्क बैठक पर संकट

येदियुरप्पा के शपथ लेते ही बड़ा बवाल, CONG-JDS के विधायकों का बीजेपी के खिलाफ संघर्ष

बेंगलुरु: कर्नाटक में राज्यपाल द्वारा बिना बहुमत वाली पार्टी बीजेपी के उम्मीदवार को मुख्यमंत्री की शपथ दिलाने के बाद अब राज्य में संघर्ष की स्थित बन आई है। गुरुवार को शपथ ग्रहण के तुरंत बाद कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर के विधायकों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। जिससे स्थित बिगडनी शुरू हो गयी है।

बतादें कि राज्यपाल वाजूभाई वाला ने सबसे बड़े और बिना बहुमत वाले दल को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था। जिसके बाद बीएस येदियुरप्पा को राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई गयी है। वहीँ राज्य में विपक्ष का जबरदस्त प्रदर्शन शुरू हो गया है। यहाँ के फ्रीडम पार्क में कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर के विधयाक धरने पर बैठे हैं। जिसमें बताया गया अहै कि जेडीएस के साथ साथ एक निर्दलीय और अन्य पार्टी का भी विधायक शामिल है।

कर्नाटक पर राहुल का बड़ा हमला: आरएसएस के इशारे पर पाकिस्तान बन रहा है भारत?

जिनको लेकर कहा गया था कि उन्होंने बीजेपी की सरकार को समर्थन किया है। हालाँकि अभी इनमे बड़ा संशय बना हुआ है। वहीं कांग्रेस, जनता दल सेक्युलर के इस प्रदर्शन में पूर्व पीएम और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) प्रमुख एचडी देवगौड़ा भी पहुंच रहे हैं। गुरुवार को ही राज्यपाल वाजूभाई वाला ने बीएस येदियुरप्पा को बिना बहुमत के बाद भी शपथ दिलाई थी।

कर्नाटक: 24 घंटे में गिर जाएगी येदियुरप्पा सरकार, SC ने माँगा है कुछ ऐसा?

जिसके बाद से राज्य सहित देशभर में घमासान छिड़ गया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और बीजेपी प्रमुख अमित शाह के इशारे पर संविधान की हत्या कर राज्य में जबरदस्ती बिना बहुमत होने के बाद भी बीजेपी की सरकार बनवाई जा रही है। यह पूरी तरह तानाशाही है। जब राज्य में एक गठबंधन के पास बहुमत से भी ज्यादा का आंकडा है और उन्होंने सरकार बनाने का दावा भी पेश किया है। जिसके बाद भी उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के बजाय बिना बहुमत वाली पार्टी के नेता को मुख्यमंत्री बना दिया गया है।

यह भी देखें-

loading...