Breaking News
  • मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव गिरा, सरकार के पक्ष में 325 जबकि विपक्ष में पड़े 126 वोट
  • लंदन: महिला हॉकी विश्व कप के आगाजी मुकाबले में इंग्लैंड से भिड़ेगी भारतीय टीम
  • पुणे: 3 करोड़ के पुराने नोट जब्त, गिरफ्तार किए गए 5 लोगों में कांग्रेस पार्षद शामिल
  • मॉब लिंचिंग: अलवर में गोरक्षा के नाम पर अकबर नाम के शख्स की पीट-पीटकर हत्या

पंजाब: अब सीरिंज खरीदना होगा गया मुश्किल, जानिए क्यों लिया गया है फैसला...

चंडीगढ़: पंजाब सरकार ने अब राज्य में हर मेडिकल सहित सामान्य दुकानों पर मिल जाने वाली सीरिंज को खरीदना मुश्किल कर दिया है। अगर आपको सीरिंज खरीदना है तो पहले डॉक्टर से लिखित में देना होगा। उसके बाद ही आपको सीरिंज उपलब्ध करवाई जाएगी। आखिर ऐसा क्यों किया गया। इसके पीछे भी बड़ी वजह है।

बतादें कि फसल सहित कई वीरों सपूतों की धरती कहे जाने वाले पंजाब पर नशे के लिए बदनाम हो चुका है। के रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया का कोई ऐसा नशे का पदार्थ नहीं है जिसकी तस्करी पंजाब में होती हो। गांजा, भांग ड्रग्स सहित सैकड़ों मादक पदार्थों ने पंजाब की नशे में जहर भर दिया है। नशे की लत में पंजाब की युवा से लेकर महिलाओं तक को बर्बाद कर दिया है। ऐसे में इस काल से छुटकारा पाने के लिएय पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार कई बड़े कदम उठा चुकी है।

अमरनाथ यात्रा: भूस्खलन में फंसे सैकड़ों श्रद्धालु, एयरफोर्स ने संभाला मोर्चा

वहीँ अब एकओर बड़ा फैसला लिया है। जिसके अनुसार पंजाब सरकार ने अब सीरिंज लेने के लिए डॉक्टरों की अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया है। मतलब यह है कि अब पंजाब सीरिंज लेना हर किसी के लिए आसान नहीं रहा, इसके लिए डॉक्टरों से अनुमति लेनी होगी। उनकी अनुमति के बाद ही कोई मेडिकल या सीरिंज विक्रेता आपको सीरिंज देगा। इसके लिए सरकार ने सभी जिलों के जिला अधिकारियों को आदेश जारी कर दिया गया है कि बिना डॉक्टर की अनुमति के सीरिंज नहीं दी जाए।

बिहार की राजनीति में भूचाल: इस बड़े नेता से मिलने दिल्ली पहुंचे नीतीश कुमार!

बताया जा रहा है युवा नशे के इंजेक्शन लेने के लिए सीरिंज का इस्तेमाल करते हैं। वहीँ सीरिंज मेडिकल स्टोर पर आसानी से किसी को भी मिल जाती है। ऐसे में सरकार द्वारा लिए गये फैसले से सीरिंज के दुरप्रयोग से बचा जा सकेगा। वहीँ इससे पूर्व राज्य सरकार ने ड्रग्स के सप्लायर्स और तस्करों के लिए मौत की सजा की सिफारिश की थी। इतना ही नहीं राज्य में सभी सरकारी कर्मचारियों और नई ज्वाइनिंग करने वालों के लिए डोप टेस्ट अनिवार्य कर दिया था।

यह भी देखें-

loading...