Breaking News
  • संसद के शीतकालीन सत्र का आज दूसरा दिन
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: 114 सीटों के साथ कांग्रेस पहले नंबर की पार्टी, भाजपा के खाते में 109
  • विधानसभा चुनाव: जीतने वाली दलों को पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, जनता को धन्यवाद
  • बीजेपी की नीतियों से जनता दुखी है, यही वजह है कि कांग्रेस जीती: मायावती

दुनिया भर में वायरल हो रही हैं इंडियन महिला की तस्वीर, जानिए क्या है असली वजह

हैदराबाद: सोशल मीडिया पर एक बुजुर्ग महिला की तस्वीर बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है। हालांकि ऐसा नहीं है महिला की तस्वीर सोशल मीडिया पर पहली बार आई है, बल्कि इससे पहले भी वह सोशल मीडिया पर चर्चा में आ चुकी हैं। ये महिला वैसे तो आम महिलाओं की तरह ही हैं कि लेकिन सोशल मीडिया पर वह पिछले कई सालों से चर्चा का केंद्र रहीं है। जो अब हमारे बीच नहीं रहीं।

दरअसल, आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के छोटे से गांव की रहने वाली मस्तनम्मा की पहचान दुनिया की सबसे बुजुर्ग यूट्यूबर के तौर पर कि जाती थी, जिनका निधन 107 साल की उम्र में हो गया। वह यूटूब पर लजिज भोजन पकाने के लिए मशहूर थी। मस्तनम्मा अपने खेत के बीचो-बीच बने किचन में बहुत ही बेहतरीन और आसान तरीके से देशी से लेकर विदेशी खानों की रेसिपी तैयार करती थी।

कपिल की शादी में जाने वाले मेहमानों के लिए सबसे खास जानकारी, ऐसा नहीं किया तो नहीं मिलेगी एंट्री!

यूटूब पर मस्तनम्मा की चर्चा का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि यूट्यूब चैनल पर उनके 12 लाख से भी अधिक सब्सक्राइबर हैं। आपको बता दें कि मस्तनम्मा के यूट्यूबर बनने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। कहा जाता है कि मस्तनम्मा के पोते लक्ष्मण और उसके दोस्त ने पहले 'कंट्री फूड्स' नाम से यूटूब चैनल बनाया, जिस पर वे अलग-अलग पकवानों का रेसिपी और वीडियो शेयर करते थे। लेकिन तब उनकी लोकप्रियता उतनी नहीं थी।

जिसके कुछ समय बाद लक्ष्मण की मां ने कहा कि तुम अपनी दादी मस्तनम्मा का वीडियो क्यों नहीं बनाते, वह अपने इलाके में बेहरिन खाना पकाने के लिए जानी जाती हैं। जिसके बाद लक्ष्मण ने अपनी दादी का वीडियो बनाना शुरू किया और देखते ही देखते उनकी किस्मत निकल पड़ी और वह देश-दुनिया में लोकप्रिय हो गए। मस्तनम्मा ने अपने यूट्यूब चैनल के पहली बार 'बैंगन की कढ़ी' बनाई थी, जिसे काफी पंसद किया गया।

प्रिंसिपल और टीचर्स ने ले ली छात्रा की जान, पटना में भारी बवाला!

बताया जाता है कि मस्तनम्मा को एक ऐसे परिवार ने गोल लिया था जिसके परिवार में कोई बेटी नहीं थी। इसी परिवार ने उन्हें ‘मस्तनम्मा’ का नाम दिया। मस्तनम्मा की शादी 11 साल की उम्र में ही हो गई थी और महज 22 की उम्र में वह विधवा हो गई थी। पति के निधन के बाद उन्होंने अपने पांच बच्चो का लालन-पालन खुद ही किया।

अपने बच्चों को पालने के लिए वह दिहाड़ी पर काम किया करती थी। ये दौरान उनके लिए काफी दुख भरा था, लेकिन इससे भी दुख भरा एक और दौर आया जब एक भीषण महामारी की चपेट में आकर उनके चार बच्चों की मौत हो गई, जबकि पांचवें बेटे की आंख चली गईं।

जानिए कौन है क्रिश्चियन मिशेल और क्या है पूरा मामला, भारत लाया गया...

loading...