Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

राखी से पहले माथे पर क्यों लगाया जाता है तीलक

नोएडा : चाहे पर्व हो या कोई शुभ काम, प्राचीन समय से हिन्दू रिति रिवाजों में किसी शुभ काम करने से पहले तिलक लगाया जाता है। बता दे कि, कुछ दिनो में ही रक्षा बंधन का त्योहार आने वाला है।  जिस दिन बहनें अपने भाईया के ललाट पर तिलक लगाएंगी। लेकिन क्या आप जानते है।  इस तिलक का महत्व  और ये लिहाजा है, की  इस बारे में आप भी जरूर सोचते होंगे की  हर शुभ काम से पहले  माथे पर क्यों  तिलक लगाया जाता है ? अगर आप भी  ऐसा ही सोचते है । तो ज्यादा मत सोचिए,  क्योकि हम आपको बताते है। प्राचीन समय  से चली आ रही इस तिलक  प्रथा  का महत्व ।

 

ऐसा  कहा जाता है कि  मनुष्य के मस्तक के मध्य में विष्णु भगवान का निवास होता है, और तिलक ठीक इसी स्थान पर लगाया जाता है। तिलक लगाना देवी की आराधना से भी जुड़ा है। और वहीं  टीका लगाने के पीछे अच्छी भावना के साथ-साथ दूसरे तरह के  काम  में  लाभ हो इसकी कामना भी होती है।

हिन्दू  धर्म में जब भी कोई धार्मिक का कार्य, शुभ कार्य,  या यात्रा  के लिए कही जाना होता है । उस वयक्ति की यात्रा शुभ हो इसके लिए उसका  तिलक संस्कार किया जाता है। सिर पर तिलक लगाकर किसी भी शुभ कार्य की  सिद्धि के लिए कामना की जाती है। और देवी की पूजा  के बाद माथे पर तिलक इस  लिए  लगाया  है । क्योंकि उस तिलक को देवी के आशीर्वाद का प्रतीक माना जाता है।

अब हम आपको बताएंगे तिलक के प्रकार

ज्यादा तर चंदन, कुमकुम, , हल्दी, आदि का तिलक लगाने की प्रथा चल रही है।

हल्दी टिका इसलिए लगाया जाता है। क्योकि हल्दी से युक्त तिलक लगाने से त्वचा शुद्ध होती है। और हल्दी में एंटी बेक्ट्रियल तत्व होते हैं, जो रोगों से मुक्त करता है।

चंदन का तिलक लगाने से मनुष्य के पापों का नाश होता है। लोग कई तरह के संकट से बच जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, तिलक लगाने से ग्रहों की शांति होती है। और माना जाता है, कि चंदन का तिलक लगाने वाले का घर अन्न-धन से भरा रहता है।

लाल कुंकुम का तिलक इसलिए  लगाया जाता हैं। क्योकि लाल रंग के तिलक ऊर्जा एवं स्फूर्ति का प्रतीक होता है।

मस्तक पर टीका लगाने से मस्तक में तरावट आती है। लोग शांति व सुकून अनुभव करते हैं। यह कई तरह की मानसिक बीमारियों से बचाता है।

आपको एक बात और बता दे,  कि बहुत से लोग ऐसे होते  है जिन्हे तिलक  लगाने तो अच्छा लगता है, क्योकि वो ललाट की शौभा होता है । लेकिन वो किसी को दिखाना नही  चाहते है.. तो उन लोगो के लिए भी शास्त्रों में उपाय बताया गया है।  कहा गया है, कि ऐसी स्थिति में मस्तक पर जल का तिलक लगा लेना चाहिए। इससे लोगों को प्रत्यक्ष तौर पर कुछ लाभ बड़ी आसानी से मिल जाते हैं।

 

loading...