Breaking News
  • गुजरात: 44 बिल्डर्स और फाइनेंसरों के कई ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वार्षिक समीक्षा बैठक में वित्त मंत्री, कर्ज देने की प्रक्रिया को ईमानदार बनाएं बैंक
  • उत्तर भारत में मौसम का कहर जारी, हिमाचल में 3 की मौत, बादल फटने से मची तबाही
  • भारत-पाक विदेश मंत्रियों की वार्ता रद्द होने के बाद सार्क बैठक पर संकट

क्या आप ‘इंटरनेट पर आग’ लगाने वाली इस माचिस की कहानी जानते हैं!

लखनऊ: मौजूदा समय में सोशल मीडिया टीवी और अखबार से भी आगे निकल चुका है। एक ओर टीवी में खबरें देखने को मिलती है तो अखबार में खबरे विस्तार से पढ़ने को मिलती है, जबकि सोशल मीडिया पर खबरें वायरल होती है। दरअसल आज ऐसी बात इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि इन दिनों सोशल मीडिया पर एक पत्र ने आग लगा रखा है।

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिरी बिना माचिस के आग कैस लग गई, तो आप गलत है, क्योंकि इस पत्र का सबसे मुख्य पात्र एक माचिस ही है, जिसमें आखिरी के महज 19 तीलियां ही बची थी। इससे पहले की आप अपना सिर पटके इस पूरी रिपोर्ट को जरूर पढ़े।

अब सरकार चलाएगी किन्नर कल्याण बोर्ड- जाने यहां क्या होगा...

दरअसल, यह पत्र उत्त प्रदेश के मुरादाबाद से जुड़ा है। यहां बिजली विभाग के एक सहायक इंजीनियर सुशील कुमार ने अपने से छोटे अधिकारी मोहित पंत को आधिकारिक पत्र लिखा था। लेकिन पत्र में जिस तरह की बाते की गई है वो बेहद ही दिलचस्प है। यहीं नहीं इस पत्र में एक पुलिस अधिकारी ने भी तड़का लगा दिया जिसके बाद से इसकी चर्चा सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल रही है।

इस पत्र में सहायक इंजीनियर ने अपने छोटे अधिकारी के लिए लिखा कि, आप ने 23 जनवरी को माचिस का डिब्बा उधार लिया था, जिससे मैं मैं मॉर्टीन जलाने का काम करता था, उस माचिस के डिब्बे में सिर्फ 19 तीलियां ही थी, लेकिन मुझे अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि आपने अब तक वापस नहीं किया है।

बॉलीवुड के इन 7 बड़े एक्टर को भी हुआ कैंसर- 3 की मौत लेकिन 4 ने बचा ली अपनी जान...

इसी पत्र में बड़े साहब आगे लिखते हैं कि, आप ने मुझे सुनिश्चित किया था कि आप मुझे तीन दिन में माचिस का डिब्बा लौटा देंगे, इसके साथ ही आप ने ये भी कहा था कि इस बात को लेकर हमारे बीच कोई विवाद नहीं रहेगा और हमारे बीच विश्वास कायम रहेगा। लेकिन फिर भी अगर कोई बात होती है तो इसके लिए आप आधिकारिक तौर पर जिम्मेदार होंगे।

ये तो हुई बड़े साहब और उनके छोटे की बात, लेकिन अभी पुलिस अधिकारी की एंट्री बाकी है। आपको बता दें कि इस पूरे मामले में धमाकेदार एंट्री करते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस के एडिशन एसपी और पब्लिक रिलेशन ऑफीसर राहुल श्रीवास्तव ने वायरल चिट्ठी की एक फोटो ट्वीट करते हुए लिखा रि,  ‘न दें तो बताइयेगा विधिक कार्यवाही की जाएगी''।

नोएडा: प्रमोशन के लिए योगी की पुलिस ने किया ‘फर्जी’ एंकाउन्टर!

पुलिस अधिकारी के इस ट्वीट के बाद इस पत्र की आग पूरे सोशल मीडिया में फैल गई, जिसका आलम यह है कि ब्रेकिंग न्यूज मारने वाले टीवी चैनल भी इस पत्र के आग से नहीं बच सके। तो वहीं इस पूरे मामले पर सोशल मीडिया यूजर्स तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। इस क्रम में कुछ लोगों का मानना है कि पुलिस के पास अब यही एक काम बचा है, तो वहीं कुछ लोग पुलिस की प्रतिक्रिया की सराहना भी कर रहे हैं।

आपको बता दें कि मामले पर पत्र लिखने वाले सुशील कुमार ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि एक ट्रेनी कंप्यूटर ऑपरेटर ने हाल ही में डिपार्टमेंट में ज्वाइन किया था। जिसने मुझसे एक दिन कहा कि मुझे सीनिर्यस को पत्र लिखने के बारे में बताइए। इसी दौरान मैंने उसे इस फॉर्मेट के बारे में बता रहा था, तभी अचान से लाइट चली गई।

इस दौरान जब मैं कैंडल जलाने के लिए माचिस ढूढ़ने लगा तो मुझे याद आया कि मैंने माचिस का डिब्बा तो मोहित को दिया है, जो अभी तक मुझे वापस नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में मैंने पत्र तो लिखा था, लेकिन मुझे पता नही है कि ये सोशल मीडिया पर कैसे वायरल हो गई।

loading...