Breaking News
  • कश्मीर घाटी, लद्दाख में कड़ाके की शीतलहर जारी
  • पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी, कच्चे तेल में नरमी
  • लोकसभा में सत्ता पक्ष, विपक्ष का हंगामा
  • पर्थ टेस्ट : 146 रन से हारा भारत, आस्ट्रेलिया ने की सीरीज में 1-1 से बराबरी
  • चक्रवाती तूफान Pethai Cyclone आज आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा

6 महीने बाद फिर जिंदा हो उठी लड़की, मई में हुई थी हत्या, घरवालों ने किया था अंतिम संस्कार

नई दिल्ली : जिस लड़की पुलिस और उसके घर वाले मरी हुई समझ रहें थे, वह अचानक ही जिंदा हो गई। पुलिस के अनुसार इस लड़की की हत्या मई में कर दी गई थी। इस लड़की के घर वालों ने भी इसकी बॉडी के शिनाख्त कर ली थी। और अपनी बेटी को मरी समझकर उन्होंने उसका अंतिम संस्कार कर दिया। लेकिन अचानक वह लड़की जिंदा हो गई जिसका इन्होंने श्राद्ध किया था। आखिर क्या हैं पूरा माजरा, आइये हम आपको बताते हैं

MI ने लॉन्च किया चार कैमरों से लैस नया हैंडसेट, कीमत कम पर फीचर्स अनेक

दरअसल बात यह हैं कि इसी साल 4 मई को पश्चिमी दिल्ली के मुंडका इलाके के निहाल विहार में एक लड़की के शव के टुकड़े मिले थे। उस वक्त दिल्ली पुलिस शिनाख्त के लिए झारखंड से लड़की के भाई को लेकर आई थी, जिसने कहा था कि वे टुकड़े उसकी बहन के शरीर के हैं। इसके बाद 17 मई को करकेटा को अरेस्ट कर पुलिस ने केस को सुलझा लेने का दावा किया था, जो प्लेसमेंट एजेंसी का मालिक था। उसके साथियों गौरी और साहू को भी अरेस्ट कर लिया गया था जबकि चौथा साथी फरार था। तीनों फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं। जिसके लड़की के मर्डर के आरोप में तीनों गिरफ्तार हुए थे, वो तो जिंदा निकली। लेकिन जो शव मिला था वो किसका था।   

नानक जयंती से ठीक पहले मोदी सरकार ने दिया पंजाब को अनेक तोहफा, बनेगी कॉरिडोर तो चलेगी...

घटर पहुंचने के बाद किशोरी ने झारखंड पुलिस को बताया कि उसे और एक अन्य लड़की को अच्छी नौकरी के नाम पर पिछले साल 30 जुलाई को झारखंड से बाहर ले जाया गया था। उसे चंडीगढ़ में एक घरेलू सहायिका का काम दिया गया, जहां अक्सर उसके साथ मारपीट होती और पैसे नहीं दिए जाते थे।वह किसी तरह वहां से भागकर नोएडा पहुंची और एक अन्य प्लेसमेंट एजेंसी से उसने संपर्क किया और वहां कुछ महीनों तक काम किया।

एक बार फिर रेल हादसा, बेपटरी हुई रेल के 6 डिब्बें, 17 ट्रेनें...

पुलिस के मुताबिक, 'लड़की ने टीवी पर अपनी हत्या की खबर देखी तो अपने मालिकों को बताया लेकिन उन्होंने इस बात को छुपा लिया।' इसके बाद वह नोएडा से भी भाग निकली और पुलिस ने उसे एनजीओ को सौंप दिया, जिसकी मदद से वह अपने घर तक पहुंच सकी। लापुंग पुलिस का कहना है कि ल़की के परिवारवाले कोई केस नहीं दर्ज करवाना चाहते। पुलिस ने कहा, 'परिवार का कहना है कि बेटी को सही सलामत पाकर वे खुश हैं और कानूनी पचड़ों में नहीं पड़ना चाहते।' हालांकि उन्हें शक है कि असल में मरने वाली लड़की वह है जिसे उसके साथ झारखंड से नौकरी के बहाने ले जाया गया था। हालांकि लापुंग पुलिस ने कहा कि अगर किशोरी सहज महसूस करे तो उससे एक बार और पूछताछ की जाएगी, शायद कोई मदद मिल सके। दिल्ली पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि उस दौरान कौन-कौन सी लड़कियों को ककरेटा दिल्ली लाया था और उनमें से कोई लापता तो नहीं ।

मलिक ने बताया आखिर क्यों की जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग, फेरा कांग्रेस के उम्मीदों पर पानी

loading...