Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

कपूत से भला निर्वंश! टीम इंडिया को मिल गया धाकड़ ‘बैटमैन’?

कपूत से भला निर्वंश! ये एक पूरानी कहावत है। जिसे लोग अपने अपने तरीके से इस्तेमाल करते रहे हैं, और आज हम भी वैसा ही कर रहे हैं। इस कहावत को हम दिग्गज भाजपाई नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।

दरअसल, हर पिता का सपना होता है कि बेटा कुछ ऐसा करें जिससे समाज में उनका सिर फक्र से उठा सके और वह 56 इंच की छाती ठोक कर कह सके कि हां मेरे बेटे ने ऐसा किया है, लेकिन कैलाश के बेटे के कारनामें ने उनके पिता का सिर आसमान में नहीं पाताल की ओर रखने पर मजबूर कर दिया है।

गौर से देखिए ये वहीं कैलाश हैं जिनके उपर बंगाल में ममता का सियासी खूटा उखाड़ने का दारोमदार है और वह इसे बखूबी निभा भी रहे हैं। कल तक छाती ठोक कर बंगाल में टीएमसी की गुंडागर्दी का रोना रोने वाले विजयवर्गीय के पास इन सवालों का जवाब नहीं हैं, जो कैलाश एक मसले पर अलग-अगल मीडिया कर्मियों को अलग-अलग प्रकार से बाइट बांटते थे, आज उनका जुबान सिल गया, अपने आकाश के ‘बैटमैन’ वाली करतूत पर कैलाश पातल में भागने पर मजबूर हैं, पत्रकार सवाल करता रह गया, लेकिन उनके पास जवाब नहीं है, और हो भी कैसे? जब बेटे ने सरेराह पिता की इज्जत नीलाम कर दी।

पिता को देख लिए... अब बैटबाज बेटे की करतूत देखिए। ये हैं न्यू इंडिया के युवा विधायक, इनका चेहरा आपके लिए नया होगा, क्योंकि आकाश पहली बार जनप्रतिनिधि बने हैं, चुनाव जीतने के बाद भले ही आकाश ने कुछ  ऐसा नहीं किया जिस पर उनके पिता फक्र कर सके, लेकिन 26 जून को उन्होंने कुछ ऐसा जरूर कर दिया, जिसने दहाड़ने वाले पिता की बोलती बंद करा दी।

दरअसल, ये तस्वीरें मध्यप्रदेश के गंजी कंपाउंड इलाके की है, जहां बुधवार को नगर निगम के कर्मचारी जर्जर हो चुके मकान खाली करान पहुंचे थे, लेकिन आकाश ने ऐसा करने से मना किया था,  हालांकि सरकारी हुकुम के गुलाम अधिकारियों ने उनकी बात टाल दी, और इसका असर ऐसा हुआ कि सत्ता के नशे में चुर आकाश पल भर में बैटमैन बन बैठे। जौ अब उनके लिए भारी पड़ रही है।

दरअसल, सरेराह सरकारी अधिकारी के साथ गुंडागर्दी करने वाले आकाश को पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, आम तौर पर नेताओं को तत्काल जमानत मिल जाती है, लेकिन आकाश के साथ ऐसा नहीं हुआ, कोर्ट से जमानत नहीं मिलने के कारण आकाश को जेल भेज दिया गया है। हालांकि जमानत की जद्दोजहद अब भी जारी है।

लेकिन आकाश के तेवर देख ऐसा नहीं लगता कि वे इतनी आसानी से मानने वाले हैं। क्योंकि उन्हें अपने किए पर कोई पछतावा नहीं, बल्कि उन्होंने साफ कर दिया है कि आवेदन, निवेदन और फिर दनादन, यही लाइन आगे भी जारी रहेगी।

वहीं आकाश की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी देख सोशल मीडिया पर ऐसी बहस छिड़ी है कि ये युवा बल्लेबाज तो टीम इंडिया को राहत की सांस दिला सकता है। कई लोगों का दावा है कि विजयवर्गिय का आकाश विश्व कप में चोटिल खिलाड़ियों से परेशान चल रही विराट एंड कंपनी को बड़ी राहत दिला सकता है, उन्हें जल्द जमानत दिलाकर इंग्लैंड रवाना किया जाना चाहिए।

loading...