Breaking News
  • असम में आज दोपहर 1.55 बजे तक कोरोना के 111 नए मामले, कुल संख्या 1672 हुई
  • 69,000 सहायक शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया पर लखनऊ हाईकोर्ट बेंच ने लगाई रोक
  • IB कर्मचारी अंकित शर्मा मर्डर केस में तारीन हुसैन का हाथ, दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट
  • महाराष्ट्र में कोंकण तट से टकराया निसर्ग चक्रवात, 100 KMPH की रफ्तार से चल रही है हवाएं
  • हर प्रवासी मजदूर को 10 हजार की एकमुश्त मदद दे केंद्र : ममता बनर्जी

कोरोना वायरस की वजह से ये 10 चीजें हुई अच्छी, दुनिया हमेशा रखेगी याद...

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर में हाहाकार मचा है। अब तक 1.54 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। 22 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। कोरोना को फैलने से रोकने के लिए तमाम देशों में लॉकडाउन लगाया गया है। ऐसे में अब वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भी संकट का बादल मंडराने लगा है। लेकिन इन सबके बावजूद कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते कुछ ऐसी भी चीजें हुई हैं जो हमारे लिए काफी अच्छी साबित हो रही हैं।

1- पूरी दुनिया में करोड़ों लोग धोने लगे हाथ : हाथ धोना एक अच्छी आदत है। भारतीय संस्कृति में खाना खाने से पहले हाथ धोना काफी जरूरी माना जा रहा है। लेकिन हाल ही के कुछ सालों में इस आदत में परिवर्तन देखने को मिला था। लेकिन अब एक बार फिर भारत ही नहीं पूरी दुनिया के लोगों में बार बार हाथ धोने की आदत आ गई है। दरअसल, कोरोना वायरस का अब तक कोई इलाज नहीं मिला है। ऐसे में साफ सफाई, खास कर हाथ धोना काफी अहम माना जा रहा है। WHO और सरकारों के बार बार कहने से एक बार फिर लोगों ने हाथ धोना शुरू कर दिया है।

2- कोरोना के चलते जर्म्स और रोग फैलाने वाले वायरसों का हो रहा सफाया: इतना ही नहीं कोरोना के चलते आज पूरे देश में साफ सफाई हो रही है। हर जगह इलाकों को सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे ना केवल कोरोना बल्कि और तमाम जर्म्स और रोग फैलाने वाले वायरसों, जिनसे निमोनिया, मलेरिया आदि फैलता है, वे भी नष्ट हो रहे हैं।

इस बार जमातियों के पक्ष में बोलना स्वरा को पड़ा भारी, इस धाकड़ छोरी ने दिया करारा जवाब...

3- लोग घर पर बिता रहे वक्त : लॉकडाउन के चलते सभी उद्योग, धंधे और दफ्तर बंद हैं। अचानक हुए लॉकडाउन के चलते लोग घरों में रह रहे हैं। व्यस्त जिंदगी होने के चलते लोग अपनों को समय नहीं दे पाते थे। लेकिन अब लॉकडाउन में लोग अपनों के साथ समय बिता रहे हैं।

4- रोड एक्सीडेंट कम हुए: दुनियाभर में हर रोज 3424 लोग एक्सीडेंट में मरते हैं। यानी हर 1 मिनट में दो लोगों की मौत होती है। लॉकडाउन में लोग घरों में रह रहे हैं। इससे एक्सीडेंट में कमी आई है। या यू कहें बहुत ज्यादा कमी आई है।

5- हवा-पानी शुद्ध हुए: भारत में 25 मार्च को लॉकडाउन लगाया गया था। पिछले 25 दिनों से उद्योग धंधे, और कारखाने सब बंद हैं। वाहन भी नहीं चल रहे हैं। ऐसे में हवा काफी शुद्ध हो गई है। देश के ज्यादातर शहरों में हवा की गुणवत्ता पहले की तुलना में काफी बेहतर हो गई है। वहीं, गंगा, यमुना समेत तमाम नदियों का पानी भी काफी हद तक शुद्ध और स्वच्छ हो गया है।

6- खर्च हुआ कम : लॉकडाउन के चलते मॉल, सिनेमा हॉल, कॉम्प्लैक्स, होटल और रेस्टोरेंट बंद हैं। ऐसे में लोग ना ऐसी जगह पर जा रहे हैं और ना ही पैसे खर्च हो रहे हैं। लॉकडाउन के चलते सिर्फ जरूरी चीजों पर ही लोग खर्च कर रहे हैं।

7- वॉरियर्स की अहमियत पता चली: दुनियाभर में कोरोना के खिलाफ जंग चल रही है। इस जंग में डॉक्टर्स, नर्स और मेडिकल स्टाफ अहम भूमिका निभा रहे हैं। इसके अलावा पुलिसकर्मी, मीडिया कर्मी, सफाई कर्मी, सुरक्षाबल और जरूरी सेवाओं में लगे लोग अपनी जान पर खेल कर लोगों की जरूरत पूरा कर रहे हैं। महामारी के वक्त हमें इन वॉरियर्स की अहमियत पता चली है।

जमातियों पर हमला करना कंगना की बहन को पड़ा भारी, रंगोली पर हुए कार्रवाई से खुश हुए लोग...

8- परोपकार के लिए प्रोत्साहित हुए: कोरोना वायरस से पूरी दुनिया चपेट में है। ऐसे में इस अदृश्य दुश्मन के खिलाफ जंग में भाग लेने के लिए पूरा देश आगे आया है। कारोबारियों से लेकर आम जन तक और सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं मदद में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। कोई आर्थिक मदद कर रहा है तो कोई गरीबों को राशन और खाना उपलब्ध करा रहा है। कोरोना संकट के वक्त लोगों में परोपकार की भावना भी देखने को मिली है।

9- स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर करने का मौका मिला: कोरोना के चलते दुनियाभर के देशों ने अपनी स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर करने के लिए कदम उठाए हैं। कोरोना के खिलाफ उठाए गए ये कदम आगे आने वाले वक्त में भी काम आएंगे। इससे ना केवल देशों की स्वास्थ्य सुविधाएं आगे होंगी, बल्कि सभी अपनी अपनी अर्थव्यवस्था का कुछ हिस्सा स्वास्थ्य सुविधाओं पर भी खर्च करेंगे।

10- अपनी रुचि के काम पर ध्यान देने का वक्त मिला: लॉकडाउन के चलते तमाम लोग घर पर छुट्टियां बिता रहे हैं। ऐसे में उन्हें अपनी रुचि के कामों पर ध्यान लगाने का समय मिला है। कोई अपनी पसंद की किताबें पढ़ रहा है तो कोई पसंदीदा खाना बनाना सीख रहा। इसके अलावा कोई इंटरनेट पर अपने पसंद की चीजों को खोज रहा है तो कोई घर के कामों में हाथ बटाना सीख रहा। वहीं, बच्चे भी इंटरनेट के जरिए अपनी रुचि के विषय पढ़ रहे।

loading...