Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • आतंकवाद के खिलाफ़ कार्रवाई में सुरक्षाबलों के हाथ बड़ी सफलता, 36 घंटों के अंदर 8 आतंकी ढेर
  • पाकिस्तान ने राष्ट्रीय दिवस पर अलगाववादी नेताओं को किया आमंत्रित, भारत ने जताया सख्त ऐतराज
  • शहीद दिवस पर आजादी के अमर सेनानी वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को नमन कर रहा है देश
  • आज IPL के 12वें सीजन का आरंभ, एम एस धोनी और विराट कोहली आमने-सामने

एक साथ 2 अनोखी शादी, दोनों दुल्हन ने दूल्हे को पहनाया मंगलसूत्र

नई दिल्ली: अपनी संस्कृति और परंपराओं के लिए दुनिया भर में मशहूर ‘भारत’ में इन दिनों बदलाव की आंधी चल रही है। लोग जटील परंपराओं को पीछे छोड़ विकास की आश में आगे बढ़ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ बदलते वक्त के साथ सामाजिक रीति-रिवाज और परंपराओं में भी परिवर्तन दिख रहा है।

पिछले दिनों लैंगिक समानता की दिशा में अनूठी मिशाल पेश करने वाले देश के एक राज्य कर्नाटक में शादी से संबंधित रीति-रिवाज और परंपराओं में एक बड़ी परिवर्तन देखने को मिला। दरअसल, अक्सर आपने सुना या देखा होगा कि, शादी के दौरान दूल्हा-दुल्हन के गले में मंगलसूत्र बांधता है।

जानिए कौन हैं अजीम प्रेमजी, परोपकार के लिए दान कर दिए 145,000 करोड़

लेकिन कर्नाटक के विजयपुरा जिले में दो ऐसी शादी हुई जो नये दौर की शादी की मिशाल बन गईं। यहां दोनों शादी पहले पारंपरिक तरीके से हुई, जिसमें दूल्हे ने दुल्हन के गले में मंगलसूत्र बांधा। वहीं इसके बाद दोनों दुलहनों ने भी आगे बढ़कर अपने-अपने दूल्‍हे के गले में मंगलसूत्र बांध दिया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दूल्हे और दुल्हन दोनों अलग-अलग जाति के हैं। इस अंतर्जातीय विवाह समारोह में कन्‍यादान और मुहूर्त जैसी परंपराएं भी टूट गई। बताया जाता है कि दूल्हे, अमित और प्रभुराज ने 12 वीं शताब्दी की श्री बासवन्ना की परंपरा में प्रिया और अंकिता से शादी की।

भारत में नहीं पाकिस्तान से हुई होली की शुरुआत, लेकिन पाकिस्तानियों ने तोड़ दिया मंदिर!

ये दोनों जोड़ियां लैंगिक समानता में विश्वास रखती हैं और अपनी अनोखी शादी के साथ एक सामाज को एक नया संदेश देना चाहती हैं। लेकिन सबसे दिलचस्प बात है कि, यह शादी लिंगायत हार्टलैंड में हुई है, जहां 12 वीं शताब्दी में बासवन्ना ने पुरुषों और महिलाओं की समानता का प्रचार किया था। वहीं दोनों दूल्हे के पिता बासवन्ना के प्रबल अनुयायी हैं।

loading...